लंकाधिपति की मृत्यु से उठा पर्दा, यहाँ आज भी रखा हुआ है रावण का शव

हजारों वर्ष पहले लंका में मर्यादापुरुषोत्तम श्री राम ने अपनी पत्नी के अपहरणकर्ता और अभिमानी रावण के बीच भयंकर युद्ध हुआ था जिसके परिणाम स्वरुप समस्त लंका और लंकापति रावण का नाश हो गया था। रावण के वध के बाद उसके मृत शरीर को उसके भाई विभीषण को सौंप दिया गया था। लेकिन कई मान्यताओं के अनुसार रावण का अंतिम संस्‍कार हुआ कि नहीं, इस बात को लेकर आज भी गहरा मतभेद है। कुछ लोगों का कहना हैं कि आज भी श्रीलंका के जंगलों में रावण की ममी रखी हुई है।

तुलसीदास द्वारा रचित रामायण मे श्रीराम और रावण के बीच हुए युद्ध का विस्तृत वर्णन है। युद्ध में श्रीराम ने रावण का वध कर अपनी पत्नी सीता को आज़ाद कराया था और लंका का शासन विभीषण को सौंप दिया था। ऐसे में यह प्रश्न उठता है कि रावण के शव का क्या हुआ? उसका अंतिम संस्कार कहां किया गया?

इस तरह के तमाम ऐसे सवाल आज भी बरकरार हैं लेकिन श्रीलंका सरकार व अनेक लोगों का दावा है कि रावण का शव आज भी धरती पर मौजूद है। ऐसा माना जाता है कि रावण के मृत शरीर को ‘ममी’ बनाकर सुरक्षित रखा गया है ठीक वैसे ही जैसे मिस्र के पिरामिडों में प्राचीन काल के राजाओं के शव रखे जाते थे।

श्रीलंका के पुरातत्व विभाग ने भी इस बात का जिक्र किया है। वे बताते है कि रागला के घने जंगलों में 8 हज़ार फुट की ऊंचाई पर एक गुफा मौजूद है, जहां रावण ने कड़ी तपस्या की थी। ऐसा माना जाता है कि इसी गुफा में रावण की ममी को रखा गया है। इस ताबुत की लंबाई 18 फीट और चौड़ाई 5 फीट है और ऐसा माना जाता है कि इसी ताबुत के नीचे रावण का बेशकीमती खज़ाना दबा हुआ है।

आगे पढ़ें अगले पेज पर: