जब बच्‍चे मान्‍यता से पूछते थें कि पापा कहां हैं तब मान्‍यता ने बोला था इतना बड़ा झूठ

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि बॉलीवुड के जाने माने अभिनेता संजय दत्त की लंबे इंतेजार के बाद उनकी फिल्म ‘भूमि’ 22 सितंबर को रिलीज हो रही है। बता दें कि आजकल संजय उमंग कुमार के डायरेक्शन में बनी इस फिल्म के प्रमोशन में व्यस्त हैं। वहीं असी बीच उन्‍होंने अपने लाइफ से जुड़े कई पर्सनल बातों को एक इंटरव्यू में के दौरान जनता के सामने रखा।

उन्होंने बताया कि जब वो जेल में थे तो उनके बच्चे अपनी मां से पूछते थें कि मां पापा कहां हैं तो मान्‍यता उनसे झूठ बोल देती थी। वो कहती कहती थी कि पापा शूटिंग के लिए शहर से बाहर गए हैं।” संजय ने बताया कि उनका और उनके परिवार का वह दौर बहुत ही तकलीफ में गुजरा है। जब वो जेल में थें तब उनकी अपने घर वालों से 15 दिन में एक बार बात करने की इजाजत मिलती थी।

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि जब भी बच्चे मान्यता से कहते कि वे पापा से फोन पर बात करा दें तो वो बहाना करते हुए कहती थी कि पापा अभी पहाड़ों में शूटिंग कर रहे हैं और वहां नेटवर्क नहीं मिलता। संजय ने बताया कि वो कभी नहीं चाहते थें कि उनके बच्‍चे कभी उन्‍हें इस हाल में देखें इसलिए मान्‍यता ने उनसे बच्‍चों को दूर रखा और संजय ने भी कहा था कि वो बच्चों को कभी जेल में न लेकर आएं। सजा पूरी करने के बाद जैसे ही संजय घर आए तभी उनके बच्चों ने उनसे पूछा क्या वे जेल में थे? तब उन्होंने कहा था, “हां मैं जेल में था, लेकिन आप जब बड़े हो जाओगे, तब बताउंगा कि क्या हुआ था।

एक पिता होने के नाते संजय दत्‍त का कहना है कि वो कभी नहीं चाहते कि उनका बेटा उनकी तरह बने। उन्‍होंने बताया कि मेरे पिता (सुनील दत्त) ने मेरी परवरिश बिल्‍कुल एक सामान्य बच्चे की तरह की है मुझे बोर्डिंग स्कूल में पढ़ाया और फिर मैने भी आगे बढ़ने के लिए कड़ी मेहनत की है और अपने बच्चों से भी यही उम्मीद रखता हूं।