अभी अभी: जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा में सेना और आतंकी के बीच घमासान लड़ाई, बिछ गए लाशों के ढेर 

अभी अभी खबर आई हैं कि जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा में सुरक्षाबालों और आतंकियों के बीच धमाशन लड़ाई चल रही हैं. या लड़ाई आज बुधवार तड़के की सुबह शुरू हुई थी जो अभी भी जारी हैं. इस लड़ाई में अब तक सेना ने दो आतंकियों को मार गिराया हैं. वहीँ आतंकियों की गोली से भारतीय वायु सेना के दो जवान शहीद हो गए हैं.

आतंकियों की गोली से दो जवान हुए शहीद

दरसल मंगलवार रात को ही सेना के जवानों को ख़ुफ़िया जानकारी मिली थी कि हाजिन के परिबल गांव में लश्कर-ए-तैयबा के आठ आतंकी छुपे हो सकते हैं. इसके बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मंगलवार देर रात को हाजिन इलाके में आतंकियों को घेर लिया था. लेकिन एनकाउंटर शुरू होने के पहले ही आतंकियों ने गोलाबारी शुरू कर दी जिसके चलते एयर फोर्स गरुड़ के कमांडो शहीद हो गए. वायुसेना के गरुड़ कमांडोज़ को ऑपरेशनल अनुभव के लिए कश्मीर में सेना के साथ लगाया गया था. इस हमले में कुछ और सुरक्षा कर्मी भी घायल हुए जिन्हें हॉस्पिटल भेज दिया गया हैं.

मारे गए दो आतंकियों में से एक था पाकिस्तान का रहने वाला

आपको बता दे कि मारे गए दो आतंकी उसी ग्रुप के थे जिन्होंने BSF के जवान रमजान पारे को मार गिराया था.मारे गए आतंकियों में से एक पाकिस्तान का रहने वाला हैं जिसका नाम अली भाई हैं. वहीँ दूसरा मारा गया आतंकी लोकल हैं जिसका नाम नसुरुल्लाह हैं. बांदीपोरा के हाजिन इलाके में हो रही इस मुठभेड़ को  सीआरपीएफ, 13 RR की टीमें अंजाम दे रही हैं.

गौरतलब हैं कि सेना और आतंकियों की मुठभेड़ उसी इलाके में हो रही हैं जहाँ 27 सितम्बर को लश्कर के आंतकियों ने बांदीपोरा में छुट्टी पर गए बीएसएफ के जवान मोहम्मद रमजान पारे (33 वर्ष) की गोली मारकर हत्या कर दी थी. मोहम्मद रमजान पारे बीएसएफ में कांस्टेबल के पद पर बारामूला में तैनात थे. उन्होंने 2011 में बीएसएफ ज्वाइन की थी. जानकारी के मुताबिक मारे गए आतंकी लश्कर-ए-तैयबा संगठन के बताए जा रहे हैं.