Video: गाउन पहनकर मंदिर में घुस रही थी महिला पुलिसकर्मी, जब श्रद्धालु ने टोका तो कर दी धुलाई

देश में पुलिसकर्मियों का रोल होता हैं कि वो इस बात का ध्यान रखे कि आम नागरिक सरकार द्वारा बनाए गए नियम कायदे अच्छे से पालन करे और किसी भी प्रकार से कानून अपने हाथो में ना ले. अब जहाँ एक तरफ कई पुलिस वाले पूरी इमानदारी से अपना काम करते हैं तो वहीँ दूसरी तरफ कुछ गिने चुने ऐसे लोग भी होते हैं जो कानून के रखवाले होने के बावजूद खुद कानून तोड़ने से बाज नहीं आते हैं. अब ऐसा ही एक चौकाने वाला वाक्या मुंबई में देखने को मिला.

आम तौर पर जब भी किसी जगह लड़ाई झगड़े या मार पीट होती हैं तो मौके पर पुलिस पहुँच उसे सुलझाने का प्रयास करती हैं लेकिन क्या होगा जब ये खुद पुलिस कर्मी ही मारपीट पर उतर आए? फिर आपको बचाने कौन आएगा? ऐसा ही कुछ मुंबई के एक मंदिर के बाहर आशा गायकवाड़ नाम की एक महिला के साथ हुआ, जब एक महिला पुलिस कर्मी ने उन्हें बड़ी बेरहमी से पिटा. आइए विस्तार से जाने क्या हैं पूरा मामला…

मंदिर में गाउन पहन घुस रही थी महिला पुलिसकर्मी 

आशा गायकवाड़ नाम की महिला मुंबई के एक मंदिर के बाहर दर्शन करने के लिए जा ही रही थी कि उसकी नजर प्रतीक्षा लकड़े नाम की एक लेडी सब-इंसपेक्टर पर पड़ी. यह महिला पुलिसकर्मी मंदिर के अन्दर गाउन पहन प्रवेश कर रही थी. चुकी कुछ दिनों पहले ही मंदिर में यह नियम बना दिया गया था कि कोई भी गाउन पहन अन्दर प्रवेश नहीं करेगा इसलिए आशा ने महिला पुलिसकर्मी को टोक दिया.

टोके जाने पर कर दी महिला की धुनाई 

जब आशा ने महिला पुलिसकर्मी को गाउन पहन कर मंदिर में घुसने के लिए टोका तो महिला पुलिसकर्मी के दिमाग का पारा ऐसा चढ़ा कि उसने आशा जी की धुलाई करना शुरू कर दिया. पुलिसकर्मी ने महिला को बड़ी बेरहमी से मारा. जब महिला जमीन पर नीचे गिर गई तो भी पुलिसकर्मी नहीं रुकी और उस पर लात घूंसे बरसाने का सिलसिला जारी रखा. कुछ देर तक मारपीट जारी रखने के बाद एक आदमी बीच में आया और पुलिसकर्मी फिर रुक गई.

सीसीटीवी में कैद हुई पूरी घटना

महिला पुलिसकर्मी के द्वारा आशा नाम की महिला को मारे जाने का यह दृश्य मंदिर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरा में कैद हो गया. यह विडियो जैसे ही इन्टरनेट पर अपलोड हुआ वायरल हो गया. विडियो देख कई लोग महिला पुलिसकर्मी के इस बर्ताव की निंदा कर रहे हैं. लोगो का कहना हैं कि इस मसले को बातचीत से भी सुलझाया जा सकता था इस तरह से महिला की पिटाई करना गलत हैं.

जानकारी के मुताबिक पीड़ित महिला ने लेडी  सब-इंस्‍पेक्‍टर के खिलाफ गैर-संज्ञेय रिपोर्ट दर्ज की हैं.

देखे विडियो