शरीर के इन अंगों पर अगर बर्थमार्क हो तो इसका परिणाम आपके लिए खतरनाक हो सकता है

जन्म के समय हर किसी के शरीर पर कोई ना कोई स्पेशल मार्क जरूर होता है जिसे बर्थ मार्क के नाम से जाना जाता है। व्यक्ति के शरीर पर पड़ने वाले ये बर्थमार्क किसी भी रंग के हो सकते है। वैसे तो लोग बर्थमार्क को एक नार्मल सी समझते हैं लेकिन आज हम आपको बताने रहे हैं की बर्थमार्क का शरीर के किन अंगों पर होने से व्यक्ति के स्वभाव में क्या परिवर्तन आते हैं। बर्थमार्क के विभिन्न अंगों पर होने से व्यक्ति के बारे में ख़ास बातों के भी पता लगाया जा सकता है , तो आईये आपको बताते हैं की शरीर के किस भाग में बर्थमार्क होने से वो व्यक्ति के बारे में क्या बताता है।

अगर बर्थमार्क छाती के नीचे हो

ऐसा माना जाता है की अगर बर्थमार्क किसी व्यक्ति के छाती पर हो तो ऐसे व्यक्ति को जीवन में सिर्फ सफलता ही हाथ लगती है। जन्म के समय व्यक्ति के छाती के नीचले हिस्से में अगर कोई बर्थमार्क पड़े तो ऐसा माना जाता है की वो व्यक्ति बहुत ही भाग्यशाली होता है और उसे जीवन के हर क्षेत्र में सफलता मिलती है।

अगर हाथ या उँगलियों पर बर्थमार्क हो

ऐसे व्यक्ति जिनके हाथ या उँगलियों पर बर्थमार्क होते हैं वो जीवन में कभी भी हार नहीं मानते हैं उन्हें जो चाहिए होता है उसे जरूर हासिल कर लेते हैं। ऐसे व्यक्तिओं के जीवन में कभी भी उन्हें हार का सामना नहीं करना पड़ता है। लेकिन इनके लिए समय हमेशा एक जैसा नहीं रहता कभी कभी इन्हें भी मुँह की खानी पड़ती है।

अगर पेट पर बर्थमार्क हो तो

अगर किसी व्यक्ति के पेट पर बर्थमार्क हो तो ऐस माना जाता है को वो व्यक्ति नेचर से मतलबी होता है। ऐसे व्यक्तियों को केवल खुद से मतलब होता है और अपने फायदे के लिए ऐसे व्यक्ति कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहते हैं। ऐसे व्यक्तिओं को दूसरों की कामयाबी देखकर जलन होती है और वो को भी खुश नहीं देख सकते है।

अगर कान के नीचे बर्थमार्क हो

ऐसे व्यक्ति जिनके कान या जबड़े के नीचे बर्थमार्क होते हैं उन्हें हमेशा कोई ना कोई स्वास्थ संबंधी परेशानी लगी ही रहती हैं। ऐसे व्यक्तियों को स्वास्थ्य संबंधी परेशानी होने के वाबजूद भी ऐसे लोग किसी फंक्शन या इवेंट को खुलकर एन्जॉय करते हैं और किसी प्रकार की कसर नहीं रहने देते।

अगर किसी के गाल पर बर्थमार्क हो

ऐसे व्यक्ति जिनके गाल के किसी भी तरफ अगर बर्थमार्क हो तो ऐसा माना जाता है की ऐसे व्यक्ति हमेशा ही किसी ना किसी टेंशन में रहते हैं। हमेशा टेंशन में रहने की वजह से ऐसे व्यक्तियों को स्वास्थ्य सम्बन्धी भी कई तरह की समस्याएं होती रहती है जिस वजह से उन्हें कई बार डॉक्टर से भी सलाह मशवरा करना पड़ जाता है।