इज़राइल के भारत के साथ रिश्ते आसमान से भी ऊँचे, पीएम मोदी ने विदेशों में भी बढ़ाया मान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को ऐतिहासिक दौरे पर इज़राइल पहुंचे। जैसा की अनुमान था प्रोटोकॉल तोड़ते हुए इज़राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने एयरपोर्ट पर ही प्रधानमंत्री का स्वागत किया। इस मौके पर नेतन्याहू ने कहा कि भारत से इज़राइल के संबंध आसमान से भी ऊँचे है। हमारे रिश्ते अंतरिक्ष तक है। नेतन्याहू ने मोदी को भारत और विश्व का महँ नेता करार देते हुए कहा कि हम किसी भारतीय प्रधानमंत्री की यात्रा के लिए 70 सालो से इंतज़ार कर रहे थे। हवाई अड्डे पर दोनों नेता गले मिले और एक दूसरे को कई बार मित्र कह कर संबोधित किया।

 

पीएम मोदी व इज़राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान नेतन्याहू ने कहा कि हमे मिलकर आतंकवाद से लड़ना है। हम दोनों मिलकर लोगों की बेहतरी के लिए काम कर सकते है। वहीँ मोदी ने कहा कि जो लोग मानवता में यकीन रखते है वे आतंकवाद और कट्टरवाद का विरोध करते है। पीएम मोदी ने मंगलवार रात कहा कि जो लोग मानवता और सभ्यता के मूल्यों में विश्वास रखते है उन्हें एकजुट होकर आगे आना चाहिये। पीएम मोदी अपनी बात जारी रखते हुए आगे कहा, उनके लिए यह सम्मान की बात है कि वह इज़राइल आने वाले पहले भारतीय पीएम है। उनके स्वागत का धन्यवाद देते हुए कहा कि यह दौरा रिश्तों का नया पड़ाव साबित होगा।

भारत के प्रधानमंत्री की मेजबानी करने के लिए 70 सालों से इंतज़ार कर रहे यहूदी देश के मुरीद मंगलवार को नरेंद्र मोदी के पहुचने के साथ पूरी हुई। इज़राइल ने इस मौके को और भी ऐतिहासिक और यादगार बनाने के लिए कोई कसर नहीं नहीं छोड़ी। इज़राइली प्रधानमंत्री नेतन्याहू खुद अपनी पूरी कैबिनेट के साथ मौजूद रहे और जैसे ही मोदी उतारे उन्होंने हिंदी में कहा, “स्वागत है मेरे दोस्त”। इसपर मोदी ने भी उन्हें गले लगाते हुए हिब्रू में कहा “शलोम”।

प्रधानमंत्री मोदी का विमान हवाई अड्डे पर पहुचते ही स्वागत समारोह और गर्मजोशी दिखाई देने लगी। हवाई अड्डे पर रेड कारपेट बिछाई गयी थी और हवाई अड्डे पर ही मोदी को गॉर्ड ऑफ़ आनर दिया गया। आपको बता दे की मोदी का हवाई अड्डे पर अमरीकी राष्ट्रीपति व पोप जैसा स्वागत किया गया। पीएम मोदी यह इज़राइल में तीन दिनों तक नेतन्याहू के साथ रहंगे। ऐसा बताया जा रहा है कि मोदी के इसराइल दौरे से करीब 17 हज़ार करोड़ का रक्षा सौदा किया जा सकता है। 10 हेरेन टीपी ड्रोन को लेकर अहम करार की उम्मीद है। यह ड्रोन ख़ुफ़िया जानकारी जुटाने में बेहद सक्षम है।