मोदी बने दो पुलिस कर्मियों के सस्पेंड होने की वजह, योगी ने सुरक्षा में कमी की वजह से किया सस्पेंड

जैसा की हम सभी को पता है अभी हाल ही में हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नॉएडा और दिल्ली वालो को नये साल का तोहफा दिया है। मैजंटा लाइन का उद्घाटन कर पी एम ने नॉएडा वालों के लिए दिल्ली जाना आसान बना दिया है। इसी दौरे के दौरान प्रधानमंत्री का कारवां 25 दिसंबर को ग्रेटर नॉएडा एक्सप्रेस वे पर डेढ़ से दो मिनट के लिए अपना रास्ता खो गयी थी। इस मामले के दौरान एक एसएसपी और एक सब इंस्पेक्टर और एक सिपाही को ससपेंड करने की बात सामने आयी है। यूपी के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने इस मामले से जुड़े अधिकारियों की जमके क्लास ली है और पुरे मामले को गंभीरता से लेते हुए डीजीपी से रिपोर्ट मांगी है।

हुआ कुछ यूँ था की एमिटी से बोटैनिकल गार्डन जाने के दौरान पीएम के काफिले के आगे आगे एक डेमो वाहन चल रहा था। वाहन चलने वाला शख्स सिपाही जयपाल था। जब काफिला एक्सप्रेस वे के सर्विस रोड से बॉटेनिकल गार्डन की तरफ ले जा रहा था तो एंटी डेमो वाहन निर्धारित रास्ते से पहले आए कट से एक्सप्रेस वे पर चढ़ गया। रास्ता पहले से ना निर्धारित होने के वजह से वो रास्ता सेफ नहीं था क्यूंकि पीएम के सुरक्षा के लिहाज़ से उन रास्तों पर कोई इंतज़ाम नहीं था. इतने हफ़्तों के सिक्योरिटी और जांच पड़ताल के बावजूद भी ऐसी गलती को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता है।

इस जाँच के दौरान एसएसपी ने सबइंस्पेक्टर दिलीप सिंह और सिपाही जयपाल को निलंबित कर दिया है। अभी तक प्राथमिक जाँच के आधार पर ही करवाई हो पायी है।

योगी ने मांगी रिपोर्ट ,जाँच अभी भी जारी

एमिटी से बोटैनिकल गार्डन ले जाते समय जब एंटी डेमो ने एक्सप्रेस हाईवे का रास्ता ले लिया तो उसके तुरंत बाद ही दूसरी ओर से आ रहे वाहनों को रोका गया और फिर उसी रस्ते काफिले को बोटैनिकल गार्डन लाया गया। एसएसपी का कहना है की जाँच अभी भी जारी है। प्राथमिक जाँच के आधार पर अभी सिर्फ दो लोगों को निलंबित किया गया है। अन्य अगर किसी भी तरह की लापरवाही सामने आती है तो उसपर करवाई की जाएगी। जनसभा से बोटैनिकल तक काफिला ले जाने के दौरान में आईपीएस नितिन तिवारी की भी लापरवाही सामने आयी है जिसकी जाँच फिलहाल हो रही है। मुख्यमंत्री ने पूरी मामले के रिपोर्ट की मांग की है और दोषी पाने पर हर किसी पर करवाई की जायगी।

खतरे में है अधिकारियों का पद

इस मामले पर जोर शोर से जाँच चल रही है। इस काफिले का प्रभारी आईपीएस अधिकारी नितिन तिवारी को बनाया गया था।डीएसपी रैंक के एक अधिकारी की भी लापरवाही सामने आयी है। पुलिस की जाँच रिपोर्ट आने पर ये अधिकारी भी हो सकते है निलंबित। एसपी लव कुमार ने कहा की काफिले का थोड़ी देर के लिए भी भटकना बहुत बड़ी बात है। फिलहाल जाँच अभी जारी है दो लोगों के निलंबित होने के बाद आगे देखते है किनपर तलवार गिरती है। नए साल पर देखते है किस अधिकारी को कैसी खबर मिलती है।