Home / अध्यात्म / आप भी पाना चाहते है ढेर सारी दौलत और शोहरत तो कीजिये इन मंत्रों का जाप

आप भी पाना चाहते है ढेर सारी दौलत और शोहरत तो कीजिये इन मंत्रों का जाप

आपको बताना चाहेंगे की हस्तरों और पुराणो के अनुसार गुरुवार का दिन भगवान् विष्णु को समर्पित माना जाता है। मान्यता है की इस दिन कई ऐसे कार्य होते है जिनहे नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से कई चीजों का नुकसान होता है और साथ ही आपके सुख-समृद्धि पर भी बुरा असर पड़ता है। जैसे की आपको बता दे की गुरुवार के दिन आपको बाल नहीं कटवाना चाहिये, ना ही साबुन और तेल का प्रयोग करना चाहिये क्योंकि ऐसा करने से धन और विद्या कि हानि होती है।

ऐसा माना जाता है की गुरुवार के दिन केले की पूजा करनी चाहिए तथा अपने घर को गोबर से लीपना चाहिए तथा पीला भोजन करना चाहिए, आदि। वैसे शास्त्रों के अनुसार यह भी कहा गया है की इस दिन जिन भी व्यक्तियों का जन्म हुआ होता उन लोगों पर भगवान विष्णु की खास कृपा होती है तथा इसके साथ ही ऐसा भी कहा गया है की बृहस्पतिवार व्रत के पूजन से चाहे स्त्री-पुरुष दोनों को वृहस्पतिदेव की अनुकम्पा से धन-संपत्ति का अपार लाभ होता है और ऐसा करने से आपके परिवार में सुख और शांति भी बनी रहती है। माना  गया है की स्त्रियों के लिए बृहस्पतिवार का व्रत करने के बहुत ही शुभ फल मिलता है।

देखा जाए तो हिन्दू मान्यता के अनुसार हमारी सृष्टि के रचयिता ब्रम्हा, विष्णु और महेश तीनों ही है मगर कहा जाता है की सृष्टि के पालनकर्ता भगवान विष्णु ही हैं और यही वजह है की जब कभी भी आप बहुत परेशान या संकट में होते है तो ऐसे स्थिति में आपको यही सलाह है की भगवान विष्णु की पूजा शुरु कर दीजिए। बता दे की यदि आप व्रत नहीं रख सकते हैं या फिर पूजा भी नहीं कर पा रहे हैं तो आप के लिए सबसे उचित होगा की सुबह उठते ही कुछ मंत्रों के जाप कीजिये, बता दे की निश्चित रूप से आपकी हर तरह की समस्यों का निवारण हो जाएगा। आपको यहाँ हम कुछ मंत्रों के बारें में बता रह है जिंका प्रतिदिन नियम से सुबह सुबह जाप करना है।

सबसे पहले तो तरक्की के लिए मंत्र :

ऊं नारायणाय विद्महे। वासुदेवाय धीमहि। तन्नो विष्णु प्रचोदयात्।।

सुख-शांति के लिए

‘ऊं नमो भगवते वासुदेवाय’ मंत्र

शक्ति और तनाव मुक्त के लिए

ऊं आं संकर्षणाय नम: ऊंअं प्रद्युम्नाय नम: ऊं अ: अनिरुद्धाय नम: ऊं नारायणाय नम:

धनलाभ के लिए

ऊं ह्रीं कार्तविर्यार्जुनो नाम राजा बाहु सहस्त्रवान। यस्य स्मरेण मात्रेण ह्रतं नष्टं च लभ्यते।।

Check Also

अकबर ने जीवन भर अपनी बेटियों को रखा कुंवारी, इसके पीछे की वजह जान कर रह जायेंगे दंग

अकबर ने जीवन भर अपनी बेटियों को रखा कुंवारी, इसके पीछे की वजह जान कर रह जायेंगे दंग

ये तो सब जानते है कि अकबर मुग़ल वंश का एक महान शासक था. जी …