fbpx

अभी अभी.. इस बड़ी हस्ती की मौत से पूरा देश सदमे में, कैंसर से हुई दर्दनाक मौत

कहते है मृत्यु एक ऐसी चीज है, जिसे इंसान चाह कर भी टाल नहीं सकता. यानि जो इंसान दुनिया में आया है, उसे एक न एक दिन दुनिया से जाना ही पड़ेगा. हालांकि कुछ लोगो का इस दुनिया को छोड़ कर जाना किसी बड़े सदमे से कम नहीं लगता. बरहलाल आपने भी पिछले साल ऐसी कई हस्तियों का निधन होते हुए देखा होगा, जिनकी किसी को उम्मीद भी नहीं थी कि वो इतनी जल्दी हमें छोड़ कर चले जायेंगे. ऐसे में पूरे देश में शोक की लहर फ़ैल गयी थी.

आपको जान कर दुःख होगा कि एक बार फिर से हमने एक बड़ी हस्ती को खो दिया है. जिसके चलते पूरा देश ही सदमे में है. गौरतलब है कि बीमारी एक ऐसी भयानक चीज है, जो इंसान को अंदर से खोखला बना देती है. जिसके चलते हम अपने अपनों को खो देते है. वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दे कि हाल ही में यानि गुरुवार को हिंदी के मशहूर रचनाकार दूधनाथ सिंह जी का निधन हो गया. दरअसल दूधनाथ सिंह जी काफी लम्बे समय से कैंसर की बीमारी से जूझ रहे थे और ये एक ऐसी बीमारी है, जिससे बच कर अब तक शायद ही कोई इंसान वापिस लौट कर आ पाया है. इसके इलावा अगर खबरों की माने तो दूधनाथ सिंह जी कई दिनों में एम्स में दाखिल थे.

इसके बाद वो अपने शहर इलाहाबाद के एक अस्पताल में ही दाखिल हो गए. जहाँ उनका निधन हो गया. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि हिंदी के महान लेखक दूधनाथ सिंह जी ने कविता, नाटक, उपन्यास, कहानी और आलोचना सहित करीब हर विषय पर अपनी कलम चलाई है. ऐसे में उनके लेखन को लोगो द्वारा काफी पसंद भी किया जाता था. मगर अब ये हस्ती हमारे बीच नहीं रही और हमें इसका बेहद अफ़सोस है.

गौरतलब है कि दूधनाथ सिंह जी को भारतेन्दु सम्मान, शरद जोशी स्मृति सम्मान, कथाक्रम सम्मान, साहित्य भूषण सम्मान और कई राज्यों में हिंदी का शीर्ष सम्मान भी मिला है. ऐसे में उनकी मौत से न केवल उनका परिवार बल्कि पूरा देश दुखी है. इसलिए हम उन्हें अपनी तरफ से एक भावपूर्ण श्रद्धांजलि भेंट करते है. वैसे दूधनाथ सिंह जी द्वारा लिखी गयी किताबो को पढ़ने का शौंक तो बॉलीवुड अभिनेताओं और नेताओ को भी था. ऐसे में ये सबके लिए वास्तव में बेहद दुःख की खबर है.

बरहलाल हम दुआ करते है कि भगवान् इस महान लेखक की आत्मा को शान्ति प्रदान करे.