बिना टिकट के ट्रेन में पकड़ी गयी स्कूल की छात्रा, फिर उसके साथ TTE ने जो किया वो जान कर रह जायेंगे सन्न

आज हम आपको एक ऐसी घटना से रूबरू करवाने वाले है, जिसके बारे में जान कर आप भी शर्मिंदा हो जायेंगे. जी हां बता दे कि दिल्ली से वाराणसी जाने वाली काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस में अभी कुछ ही दिन पहले एक ऐसी घटना हुई थी, जो बेहद शर्मनाक थी. दरसअल बात ये है कि इस एक्सप्रेस में टिकट चेकर यानि टीटीई ने एक लड़की को बिना टिकट के यात्रा करते हुए पकड़ लिया था. बरहलाल इसके बाद उस लड़की के साथ कुछ ऐसा हुआ, जो आज भी ट्रेनों में लड़कियों की सुरक्षा पर सवाल उठाता है. जी हां अगर खबरों की माने तो टीटीई ने लड़की को बिना टिकट के पकड़ने के बाद इस बात का फायदा उठाया और लड़की को एसी कोच में बिठा दिया.

इसके साथ ही टीटीई ने लड़की को रौब दिखाते हुए ये भी कह दिया कि अगर कोई यहाँ आये तो उसे बोल देना कि तुम टीटीई रवि कुमार मीणा की गर्लफ्रेंड हो. इसके इलावा लड़की का कहना है कि टीटीई ने उससे ये भी कहा था कि अगर वो उसकी गर्लफ्रेंड बन जाती है तो वो उसे जिंदगी भर खुश रखेगा. हालांकि ऐसी बातें सुनने के बाद लड़की टीटीई पर भड़क गयी और उसकी शिकायत जाकर जीआरपी से कर दी. ऐसे में उस टीटीई को गिरफ्तार कर लिया गया और वही दूसरी तरफ इस मामले में जीआरपी के एसएसआई हरेंद्र कुमार का कहना है कि वह छात्रा बिना टिकट के ट्रेन में बैठी थी. जिसके चलते उसने टीटीई से टिकट के लिए मदद मांगी.

वही टीटीई ने लड़की को एसी कोच में बिठा दिया और वहां बैठाने के बाद वह उसका फायदा भी उठाना चाहता था. मगर इस दौरान लड़की के पास एक महिला भी बैठी थी. जिसने बड़ी हिम्मत दिखाई और ट्रेन में खड़े जीआरपी के एक सिपाही को पूरी घटना की जानकारी दी. ऐसे में उस महिला की हिम्मत और समझदारी के चलते ट्रेन में एक और छेड़खानी की घटना होने से बच गयी. वही महिला के शिकायत करने पर टीटीई रवि कुमार मीणा को गिरफ्तार कर लिया गया. मगर यहाँ सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात तो ये थी कि उस टीटीई पर पहले से ही बलात्कार का मामला दर्ज था. जी हां साल 2016 में बलात्कार के आरोप में उसे जेल की सजा मिली थी.

मगर इसके बावजूद भी वह ट्रेन में टीटीई की नौकरी कर रहा था. बता दे कि यह घटना गजरौला और कांकाठेर के बीच ही हुई है. वही पीड़ित छात्रा अमरोहा की रहने वाली है. इसके साथ ही अगर खबरों की माने तो वह छात्रा दिल्ली यूनिवर्सिटी में बीएसी द्वितीय वर्ष में पढ़ती है. दरअसल लड़की ट्रेन से दिल्ली से वापिस अपने घर जा रही थी. इसके साथ ही छात्रा ने बताया कि वह जल्दी में थी और इसी चक्कर में वो टिकट नहीं ले सकी. जिसके चलते उसके साथ ये घटना हो गयी. इसके इलावा जिस टीटीई पर पहले से ही बलात्कार का इल्जाम लग चुका है, वो दोबारा ट्रेन में कैसे काम कर सकता है, ये भी एक बड़ा सवाल है, जिसका जवाब केवल ट्रेन के मुख्य अधिकारी ही दे सकते है.

बरहलाल हम तो यही कहेगे कि उस महिला ने वास्तव में एक अनहोनी होने से बचा लिया, वरना आज शायद वो लड़की भी बलात्कार का शिकार हो सकती थी.