बजट के बाद मोदी सरकार ने देश को दिया बड़ा तोहफा, सस्ते हुए पेट्रोल और डीजल के दाम

ये तो सब जानते है कि देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली नया साल शुरू होने के एक महीने बाद देश का नया बजट लागू करते है. बता दे कि आज भी देश का नया बजट लागू हो चुका है और यक़ीनन इस बजट को देख कर हर कोई बेहद खुश होगा. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि अरुण जेटली ने आज ही ये बजट सब के सामने पेश किया है. इसके इलावा जब अरुण जेटली ने देश का बजट पेश किया, उसके बाद देश के पीएम नरेंद्र मोदी ने जम कर 2018 और 2019 के बनाये गए इस बजट की तारीफ भी की. इसके साथ ही पीएम मोदी ने ये भी कहा कि इस बार जो बजट तय किया गया है, उससे देश के लोगो की जिंदगी में एक बड़ा बदलाव आएगा.

इसके साथ ही पीएम मोदी ने ये भी कहा कि ये देश वासियो की आशाओ को पूरा करने वाला बजट है. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इस बजट से सबसे पहले तो किसानो की आमदनी बढ़ेगी. इसके इलावा मध्यम वर्गीय लोगो के जीवन में भी काफी परिवर्तन आएगा. यहाँ तक कि इससे फल और सब्जी बेचने वालो को भी खूब फायदा होगा. इसी के साथ गोबर धन योजना से गांव भी स्वच्छ बनेगे. गौरतलब है कि इस बजट में बीमा योजना भी तैयार की गई है, जो दुनिया की भी सबसे बड़ी हेल्थ केयर योजना है. बता दे कि आयुष्मान योजना से एक सौ पच्चीस करोड़ देशवासियो को लाभ होगा. इसके इलावा उज्ज्वला योजना का लक्ष्य भी पांच से बढ़ा कर आठ करोड़ तक कर दिया गया है.

अब आप खुद अंदाजा लगा सकते है कि इस बार का बजट कितना खास है. बरहलाल इस बार बजट में स्वास्थ्य संबंधी योजना को लेकर भी कई बड़े एलान किये गए है. जी हां आपकी जानकारी के लिए बता दे कि सरकार बारह सौ करोड़ रूपये खर्च करके एक नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम भी शुरू कर रही है. इस स्कीम में करीब दस करोड़ लोगो को जोड़ा जाएगा. इसके साथ ही आयुष्मान भारत कार्यक्रम भी शुरू किया जाएगा. जिसके तहत देश भर में डेढ़ लाख हेल्थ सेण्टर बना कर मुफ्त दवा और जांच की सुविधा दी जायेगी.

यानि अगर सीधे शब्दों में कहे तो कुल मिला कर देश की चालीस फीसदी यानि पचास करोड़ आबादी के इलाज का खर्च खुद सरकार ही उठाएगी.  इसके इलावा हर परिवार को सालाना पांच लाख रूपये का मेडिकल खर्च भी मिलेगा. इसके साथ ही टीबी के मरीजों को हर महीने पांच सौ रूपये की मदद दी जाएगी. इसके साथ ही देश भर में चौबीस नए मेडिकल कॉलेज बनाने की घोषणा भी की गई है. वही दस करोड़ गरीब परिवारों के लिए हेल्थ बीमा स्कीम की भी घोषणा की गई है. इसके इलावा बजट के अनुसार आदिवासी बच्चो की शिक्षा पर भी जोर दिया जा रहा है.

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने ऑर्गनिक फार्मिंग को प्रमोट करने के लिए भी एक बड़ा कदम उठाया है. जी हां वास्तव में टमाटर, प्याज और आलू ने पिछले काफी दिनों से किसानो को काफी परेशान किया है. जिसके चलते सरकार ने पांच हजार करोड़ रूपये के एक प्रोजेक्ट के द्वारा किसानो को इस परेशानी से बचाने का उपाय निकाला है. इसके इलावा इस बजट के बाद पेट्रोल और डीजल भी दो रूपये सस्ता कर दिया गया है.

यानि अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो इस बार सरकार ने बजट बनाते समय हर चीज का पूरा ध्यान रखा है.