घर में इन जगहों पर भूलकर भी ना लागाएं मृत लोगों की तस्वीर, वरना होजाएंगे बर्बाद

अक्सर हर परिवार में जब लोग एक दुसरे से दूर चले जाते हैं तो उनकी याद में लोग तस्वीरों के सहारे उन्हें अपने आस पास जिन्दा रखने की कोशिश करते हैं. मृत लोगों को याद करने के लिए ही लोग उनकी तस्वीरें अपने घरों में लगाते हैं आपको जानकर हैरानी होगी की ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुछ ऐसे भी घर के हिस्से हैं जहाँ मृत लोगों की तस्वीर नहीं लगनी चाहिए. आज हम अपको घर के उन्हीं हिस्सों के बारे में बताने जा रहे हैं जहाँ भूलकर भी आपको मृत लोगों की तस्वीर नहीं लगानी चाहिए. आईये जानते हैं की कौन सा है वो घर का हिस्सा जहाँ मृत लोगों की तस्वीर लगाने से आपका सामना दुर्भाग्य से हो सकता है.

घर के इन हिस्सों में ना लगायें मृत लोगों की तस्वीर

कुछ लोग मृत लोगों की तस्वीर भगवान के साथ साथ मंदिर में लगा लेते हैं. आपको बता दें की ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऐसा करना हमेशा दुर्भाग्य को बुलाने जैसा है. इस संबंध में ऐसा माना जाता है की घर के मंदिर में देवी देवताओं के साथ मृत व्यक्ति की फोटो लगाने से ईश्वर को किया जाने वाले पूजा पाठ का कोई फल नहीं मिलता है. ऐसा करने से घर में नकारात्मक शक्तियों का वास होता है और किसी कार्य को करने में कभी सफलता नहीं मिलती है. संभव है की ऐसा करने से आने वाले समय में आपको बुरे दौड़ से गुजरना पड़े. इससे बेहतर है की मंदिर में मृत लोगों की तस्वीर ना रख, इसके अलावा आपको बता दें की पूजा अक्र्ते समय कुछ बातों का ध्यान रखना भी बहुत ही अवश्यक होता हैं. हमेशा पूजा करते समय इस बात का ध्यान अवश्य रखना चाहिए की आपका मुहं पश्चिम दिशा की तरफ हो और इससे भी बड़ी बात ये की पूजा घर बनवाते वक़्त पूजा घर का दरवाजा हमेशा पूर्व दिशा की तरफ होना चाहिए.

मृत लोगों की तस्वीर को हमेशा उत्तर दिशा में लगायें

चूँकि मृत लोगों से इंसान की भावनाएं जुडी होती हैं इसलिए लोग मृत इंसान की तस्वीरों को अपने घर में लगा कर रखते हैं. आपको बता दें की दुर्भाग्य से बचने के लिए पहली बात तो ये की कभी भी मृत इंसान की तस्वीर को मंदिर में ना लगायें और दूसरी बात ये की मंदिर के अलावे मृत इंसान की तस्वीर को आप जहाँ भी लागाएं बस बात का ध्यान जरूर रखें की तस्वीर हमेशा उत्तर दिशा की तरफ हों. इसके अलावा अपनी जिन्दगी से दुर्भाग्य को दूर करने के लिए हमेशा इस बात का ध्यान रखें की आप घर के जिस भी हिस्से में मंदिर बनवाएं बस इस बात को जरूर ध्यान में रखें की पूरे दिन में कुछ देर के लिए ही सही लेकिन उस मंदिर पर सूर्य की रौशनी जरूर पड़ती हों. ऐसा माना जाता है की जिस मंदिर घर में प्रकाश नहीं आता और हमेशा अँधेरा रहता हैं उस घर के लोगों को दुर्भाग्य का सामना करना पड़ता है. इसलिए वास्तुशास्त्र के अनुसार हमेशा घर के मंदिर को उचित देखरेख में ही बनवाना चहिये ताकि आगे जाकर कोई दिक्कत ना आये.