हर सुबह बोलते है ये मंत्र, सिर्फ धन-दौलत ही नहीं बल्कि आपको मिलेगा खूबसूरती का भी वरदान

कहा जाता है की मंत्र शब्दों या वाक्यों का वह समूह है जिसका यदि लगातार सच्चे मन से जाप किया जाए तो इससे आप विशेष शक्ति प्राप्त कर सकते है। आपको बता दे की यह मंत्र शास्त्र आदि हमारे प्राचीन भारत के महान ऋषि-महर्षियों की देन हैं। हालांकि बताया जाता है की मंत्र का सीधा संबंध मानव के मन से होता है, जो हमारे मन की एकाग्रता एवं तन्मयता मंत्र सिद्धि की मंजिल तक पहुंचाती है और हुमरे चंचल मन को एकाग्र करके किसी भी देवी-देवता की सिद्धि प्राप्त करने की क्षमता देता है। आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे की मंत्र यूं ही नहीं आ जाते है इन्हे जगाया जाता हैं और बहुत सारे प्रयासों के बाद इनकी मदद से विशेष सिद्धियों पर विजय पाई जाती है। शास्त्रों के अनुसार माना जाता है की, शुद्ध वचन और कर्म से जाप करने पर शारीरिक, भौतिक और आध्यात्मिक तमाम तरह की सभी बाधाएं नष्ट हो जाती हैं और आपको एक अलग ही अनुभूति की प्राप्ति होती है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें की शिवपुराण के अनुसार यह बताया गाय अहै की यदि आप हर रोज सुबह उठकर प्रथम पूज्य भगवान श्री गणेश जी की आराधना करना चाहिए और फिर उसके बाद भगवान गणेश की माता देवी पार्वती को समर्पित इस मंत्र का जाप करना चाहिए। ऐसा मान अजाता है की यदि आप इस मंत्र का सच्चे मन से और नियम से जाप करते है तो इससे निश्चित रूप से आपकी किस्मत के बंद दरवाजे खुल जाएंगे और आप जल्दी ही निकट भविष्य में भाग्यवान बन जाएंगे। ऐसा माना जाता है की इस मंत्र के जाप से आप लंबे समय तक खूबसूरत तो बने रहेंगे ही साथ ही साथ ही आपको मिलेगी ढेर सारी धन-दौलत और साथ में भौत सारी शोहरत भी।

यहाँ बताए गए मंत्र का जाप करने से आपकी किस्मत बादल सकती है,

मंत्र
रुपं देहि यशो देहि भगं भगवति देहि मे।
पुत्रान् देहि धनं देहि सर्वान् कामांश्च देहि मे।
अचलां बुद्धिं मे देहि धरायां ख्यातिमेव च।।

हे जगत की माता, आप से प्रार्थना है की हमें रूप, यश, तेज, पुत्र और धन प्राप्ति का वर दें और इसके साथ ही साथ हमारी समस्त इच्छाओं को पूर्ण करें। हमे उचित और जरूरी ज्ञान दें जिससे इस संपूर्ण धरती पर शोहरत प्राप्त हो। आपको भी इस मंत्र का जाप करना चाहिए और इस मंत्र का जाप करने के बाद आपको याद से यह एक काम भी कर लेना है, क्योंकि माना जाता है की सिर्फ मंत्र का जाप कर लेना ही सब कुछ नही होता है बल्कि मंत्र के जाप के बाद भी कुछ जरूरी काम भी होते है जिन्हे कर लेने से आपके मंत्र का लाभ और भी बढ़ जाता है। बता दे की मंत्र के उपरांत हमेशा घर के सभी बड़ों से आशीष लें। इसके अलावा आप अपने समर्थ के अनुसार गरीबों और जरूरतमंदों को धन तथा अन्न का दान करें। आप किसी नजदीक के मंदिर में जाकर शिवालय जाकर शिव परिवार का पूजन करें और ब्राह्मण आदि लोगों को दान-दक्षिणा आदि दें तथा संभव हो तो नवग्रह का ध्यान अवश्य करें, इससे काफी लाभ होगा।