आर्मी ऑफिसर ने पत्नी की हत्या के बाद की सुसाइड, आत्महत्या से पहले सुसाइड नोट के जरिये किया इतना बड़ा खुलासा,जान रोंगटे खड़े होजाएंगे

आजकल कब कौन क्या कर जाए कोई नहीं बता सकता है. बीते दिनों सेना के एक जवान ने भी कुछ ऐसा ही किया है, उसने ना सिर्फ अपनी बीवी की हत्या की बल्कि खुद भी अपनी जान दे दी. खुदखुशी करने से पहले सेना के इस जवान ने अपने सुसाइड नोट में आत्महत्या और पत्नी की हत्या करने का जो कारण बताया है वो आपको हैरान करके रख देगी. कहा जाता है की सेना के जवान सबसे बहादुर और साहसी होते हैं लेकिन इस सेना के जवान ने कुछ ऐसा किया है जिसने आर्मी ऑफिसर के साहस और बाहदुरी पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं. आईये जानते हैं की आखिर इस जवान ने किस वजह से ऐसा कदम उठाया, आखिर क्या थी इसकी मजबूरी.

क्या है पूरा मामला

आपको बता दें की बीते दिनों आकाश सिंह नाम के एक आर्मी ऑफिसर ने कोदाभाट स्थित अपने निवास पर सबसे पहले अपनी नवविवाहित पत्नी निकिता सिंह का गला घोंट कर हत्या कर दी और उसके बाद खुद अलकतरा रेलवे स्टेशन पर एक ट्रेन के नीचे आकर जान दे दी. खुदखुसी करने से पहले सेना के इस जवान ने एक सुसाइड नोट लिखा जिसमे उसमे लिखा है की उसने ही अपनी पत्नी की गला घोंट कर हत्या की और उसके बाद खुद ट्रेन के नीचे आकर जान दे दी. आकाश ने अपने इस सुसाइड नोट में लिखा है की निकिता और उसके मरने के पीछे किसी का भी हाथ नहीं है ना ही उनके घरवालों का और ना ही किसी परिजन का दोनों ने अपनी मर्जी से इस दुनिया को छोड़ने का फैसला किया था और इसलिए सबसे पहले उसने पत्नी निकिता का गला घोंट कर हत्या किया और फिर खुद ट्रेन के नीचे आकर अपनी जान दे दी. इधर आकाश और निकिता के घरवालों से जब पुलिस ने पूछताछ की तो उन्होनें साफ़ तौर पर बताया की दोनों की शादी कुछ ही महीनों पहले बहुत ही धूम धाम से उनके गावं में की गयी थी और उन्हें इस बात का जरा भी इल्म नहीं था की आने वाले दिनों में दोनों इस तरह का कोई कदम उठा लेंगे.

सुसाइड नोट में सेना के जवान ने लिखी चौंकाने वाली बात

आपको बता दें की आर्मी ऑफिसर आकाश सिंह ने अपनी पत्नी की हत्या के बाद खुद आत्महत्या करने से पहले अपने द्वारा लिखे सुसाइड नोट में साफतौर पर लिखा है की दोनों ने साथ मरने का फैसला खुद किया था और इसमें किसी का भी हाथ नहीं है. इसके अलावा आकाश ने इस लैटर में ये भी लिखा है की आर्मी में कार्यरत होने के कारण आकाश छह महीने में केवल एक बार ही घर आ सकता था इसलिए उसने और उसकी पत्नी ने साथ मरने का फैसला किया क्यूंकि वो दोनों इस दूरी को बर्दाश्त नहीं कर सकते थे. इसके बाद आकाश ने इस सुसाइड नोट में अपने पिता से माफ़ी मांगते हुए लिखा है की पिता जी मुझे माफ़ कर दें और भाई को हमेशा के लिए अपने पास घर बुला लें. आकाश और निकिता की मौत के बाद दोनों के परिवाल वाले काफी शोक्कुल हैं और इस बात को समझ नहीं पा रहे हैं की आखिर दोनों ने इतना बड़ा कदम उठाया क्यूँ. पुलिस छानबीन के बाद पुलिस इस नतीजे पर पहुंची है की आकाश के सेन अमी कार्यरत होने की वजह ही दोनों के मौत का कारण बना है और इसलिए इनदोनों ने अपनी जिन्दगी का अंत करके इस समस्या का हल निकाला.