सालों से लाइमलाइट से गायब था ये मशहूर एक्टर, आज दिखे इस हाल में की आप भी पहचान नहीं पाओगे

बॉलीवुड और अब तो टेलिविज़न की दुनिया एक ऐसी चकाचौंध वाली दुनिया बन कर उभरी है जहाँ हर कोई जाना चाहता है. हम सब जब दूर से इस चमचमाती दुनिया को देखते हैं तो हमारा भी मन होता है कि क्यूँ ना हम भी इस दुनिया का हिस्सा बन जायें लेकिन क्या वाकई इस चमचमाती दुनिया की सच्चाई भी इतनी ही हसीन है जितनी ये दूर से दिखती है? शायद नहीं?

आपको लग रहा होगा की ऐसा हम क्यूँ कह रहे हैं इसकी वजह भी हम आपको बता देते है. दरअसल हाल ही में सोशल मीडिया पर बॉलीवुड और टेलिविज़न के एक बड़े सितारे की ऐसी तस्वीर वायरल हो रही है जिसे देखने के बाद तो यही लगता है कि इस चकाचौंध भरी दुनिया से दूरी ही सही है.

टीवी के फेमस शो  ‘साराभाई वर्सेज साराभाई’ में नजर आने वाले एक्टर राजेश कुमार ने एक्टिंग की दुनिया से दूरियां बना ली है |दरअसल, साराभाई में राजेश, रोसेश की भूमिका में नजर आते थे और इस शो में वह एक कॉमेडी एक्टर के रूप में नजर आए थे.

हालांकि, अब उन्होंने एक्टिंग को छोड़ बिहार के गांव बर्मा के हालात सुधारने का फैसला किया और इस वजह से उन्होंने खेती के बारे में जानकारी देने के साथ-साथ शून्य-बजट आध्यात्मिक खेती करना शुरू किया है और अब उन्होंने बिहार के एक गांव को स्मार्ट गांव बनाने का फैसला किया है.

मामला ये है कि कई बॉलीवुड फिल्मों और कई चर्चित टीवी शोज़ में काम कर चुके राजेश कुमार को हाल ही में गाँव में देखा गया है. नहीं नहीं इस बार राजेश गाँव में जाकर मस्ती करते नज़र नहीं आ रहे हैं बल्कि वो तो वहां खेती करते तो कभी गाय का दूध निकालते नज़र आ रहे हैं. राजेश की ये तस्वीर देखकर लोग हैरान-परेशान हो उठे हैं. लोग समझ नहीं पा रहे हैं कि असल में ऐसा हुआ क्या है कि जिसके चलते राजेश को ये दिन देखना पड़ रहा है

अबतक मिली जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि राजेश ने इन दिनों फिल्मों/एक्टिंग से दूरी बना ली है और वो फ़िलहाल ना से 125 किलोमीटर दूर बर्मा गांव को स्मार्ट विलेज बनाने में जुट गए हैं. उन्होंने जब इस गाँव के बारे में जानकारी बटोरी तो उन्हें पता चला कि इस गाँव में ज़रूरत की चीज़ें भी नहीं है. ऐसे में उन्होंने यहीं से मन बनाया कि अब वो किसी भी हाल में इस गाँव को स्मार्ट विलेज बना कर दम लेंगे.राजेश के निरंतर प्रयास से इस गाँव के हालात सुधर रहे हैं. वो यहाँ खेती, गायों का दूध निकालना, जैसे सभी काम कर रहे हैं.

गौरतलब है कि, राजेश 1998 में अपनी प्रेग्नेंट बहन की देख-रेख के लिए मुंबई आए थे. उन्होंने अपनी ग्रेजुएशन बिहार यूनिवर्सिटी से पूरी की और वह मुंबई के सेंट जेविअर कॉलेज से मास कम्युनिकेशन करना चाहते थे. इसी बीच उनके एक दोस्त ने उन्हें एक छोटा सा रोल प्ले करने को कहा, इसमें राजेश को एक छोटी सी लाइन बोलनी थी, हैप्पी मैरिज एनिवर्सरी कांग्रेचुलेशन ये रही आपकी टिकट, इसे बोलने में उन्होंने 20 रीटेक लिए थे और इस रोल के लिए उन्हें 1,000 रुपये मिले थे. इसके बाद ही राजेश के एक्टर बनने की जर्नी शुरू हुई थी.