गाड़ी चला रहे ड्राइवर की अचानक लग गई आंख, तेजप्रताप की शादी से लौट रहे 4 नेताओं की हुई दर्दनाक मौत

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के बेटे और बिहार के पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव शनिवार की शाम राजद विधायक चंद्रिका राय की बेटी ऐश्वर्या के साथ परिणय सूत्र में बंध गए। जिसके बाद आज तक इनकी शादी की चर्चा हो रही है। जी हां बता दें कि बड़े ही धूमधाम से इनकी शादी हुई। इसके साथ ही बिहार के दो सियासी परिवारों की दोस्ती रिश्तेदारी में बदल जाएगी। इस विवाह को लेकर पिछले कई दिनों से तैयारी चल रही है। तेजप्रताप और पूर्व मुख्यमंत्री दरोगा प्रसाद राय की पौत्री ऐश्वर्या राय  के साथ पारंपरिक रूप से शादी के बंधन में बंधें।

वहीं अभी अभी हाल ही में खबर मिली है कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बेटे की शादी में कुछ राजद कार्यकर्ता भी आए थें जो कि अब वापस पटना से किशनगंज लौट रहे थें लेकिन इसी बीच राजद कार्यकर्ताओं की स्कॉर्पियो एक ट्रक से टकरा गई और उसमें सवार 4 लोगों की घटनास्‍थल पर मौत हो गई। जी हां बता दें कि ये घटना रविवार की सुबह छह बजे की है ये घटना तब हुई जब गाड़ी फारबिसगंज-अररिया फोरलेन (एनएच-57) पर पोठिया ओवरब्रिज के पास पहुची।

इस घटना में जिन लोगों की मृत्‍यु हुई वो और कोई नहीं बल्कि बिहार के पूर्व समाज कल्याण मंत्री इस्लामुद्दीन बागी के बेटे एकरामुल हक बागी, किशनगंज राजद जिलाध्यक्ष इंतेख़ाब आलम उर्फ बब्लू पिता मो.शफीक आलम (निवासी भेडामनी, कोचाधामन), दिघलबैंक राजद प्रखंड अध्यक्ष मो. पप्पू पिता मुखिया जफीर (निवासी गोरुमारा, (दिघलबैंक) और गाड़ी चला रहे मो. साहिल पिता मो.आलम (निवासी भोड़ाघर बहादुरगंज) शामिल हैं। जानकारी के लिए बता दें कि इंतेख़ाब आलम कोचाधामन से राजद प्रत्याशी के रूप में विधानसभासभा चुनाव भी लड़ चुके हैं जबकि उनकी पत्नी सीमा इंतेख़ाब पूर्व में जिला परिषद सदस्य रह चुकी हैं।

गांव वालों का कहना है कि गाड़ी की रफ्तार काफी तेज थी और वो पटना की ओर से आ रही थी लेकिन एकाएक कुछ ऐसा हुआ कि स्कार्पियो फोरलेन के डिवाइडर से टकराते हुए अनियंत्रित हो गई और दूसरी लेन पर करीब दो सौ मीटर घसीटते हुए जा गिरी। वहीं दूसरे लेन पर सामने से एक ट्रक आ रही थी जिसने स्कॉपियो को जबरदस्त टक्कर दी और फिर वहीं मौके पर ही उसमें सवार सभी लोगों की मौत हो गई। इस घटना का कारण बताया जा रहा है कि स्कार्पियो ड्राइवर को नींद आने के कारण गाड़ी अनियंत्रित हो गई थी जिसकी वजह से ये दूर्घटना हुई। बताया जा रहा है कि घटना की सूचना मिलने पर मौके पर ही पहुंची पुलिस ने सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए अररिया भेजा और ट्रक को कब्जे में ले लिया।

इन कार्यकर्ताओं के मौत से पूरे किशनगंज में मातम छाया है और वहां पूरा दिन बाजार भी बंद रहा वहीं शव को उनके पैतृक घर पर ले जाया गया और उनके निजी कब्रिस्तान में शाम सात बजे उन्हें सुपुर्द-ए-खाक किया गया। बताते चलेंं ि‍कि इंतेख़ाब पिछले 20 वर्षों से राजनीति में सक्रिय थे।  इंतेख़ाब ने एएमयू से पढ़ाई कर राजनीति की राह चुनी जिसके बाद वो साल 2001 में जिप सदस्य बने।