fbpx

23 साल की दूल्‍हन और 13 साल का दूल्‍हा, पहली रात ही हुआ कुछ ऐसा की दंग रह गए लोग

भारतीय संस्कृति के अनुसार विवाह कोई शारीरिक या सामाजिक अनुबन्ध मात्र नहीं हैं, यहाँ दाम्पत्य को एक श्रेष्ठ आध्यात्मिक साधना का भी रूप दिया गया है। कहते हैं कि विवाह दो आत्माओं का पवित्र बन्धन है। दो प्राणी अपने अलग-अलग अस्तित्वों को समाप्त कर एक सम्मिलित इकाई का निर्माण करते हैं। स्त्री और पुरुष दोनों में परमात्मा ने कुछ विशेषताएँ और कुछ अपूणर्ताएँ दे रखी हैं।

विवाह सम्मिलन से एक-दूसरे की अपूर्णताओं की अपनी विशेषताओं से पूर्ण करते हैं, इससे समग्र व्यक्तित्व का निर्माण होता है इसलिए विवाह को सामान्यतया मानव जीवन की एक आवश्यकता माना गया है। एक-दूसरे को अपनी योग्यताओं और भावनाओं का लाभ पहुँचाते हुए गाड़ी में लगे हुए दो पहियों की तरह प्रगति-पथ पर अग्रसर होते जाना विवाह का उद्देश्य है। हिन्दू शास्त्रों में प्रमुख 16 संस्कारों में विवाह भी है। यदि वह संन्यास नहीं लेता है तो प्रत्येक व्यक्ति को विवाह करना जरूरी है। विवाह करने के बाद ही पितृऋण चुकाया जा सकता है।

ये तो आपने अक्‍सर देखा होगा कि जब कभी भी लड़के व लड़की की शादी होती है तो उसमें ज्‍यादातर दुल्हन की उम्र दुल्हे की उम्र से कम ही रहती है। इतना ही नहीं कई बार ऐसा भी देखा जाता है कि शादी के रिश्ते में लड़की की उम्र लड़के की उम्र से ज्यादा होती है। वह भी ज्यादा से ज्यादा एक दो या तीन लेकिन वहीं आज जो खबर सामने आई है वो हैरान कर देने वाली है। एक मां ने अपने 13 साल के नाबालिग लड़के की शादी एक 23 साल की लड़की से कर दी है। बता दें कि ये शादी गांव वालों की मौजूदगी में बैंड बाजे बारात के साथ हुई।

ये घटना आंध्रप्रदेश के कुरनूल के उप्पाराहल गांव में 13 अप्रैल को हुई। बता दें कि ये अवैधानिक शादी पूरे गांव वालों के समर्थन से बाजे गाजे के साथ हुई। लेकिन वही इस शादी के पहली रात को ही पुलिसवालों ने उनके घर पर छापा मार दिया जिसके बाद उन्‍हें पुलिस पकड़ पाती इससे पहले ही वो सभी लोग कार्यक्रम व घर छोड़कर जा चुके थे। जानकारी के अनुसार बता दें कि इस शादी के पीछे का कारण ये था कि दूल्हे की मां काफी बीमार रहती थी और वो अपने शराबी पति से तंग आ गई थी जिसकी वजह से उसने अपने 13 साल के लड़के की देखभाल के लिए किसी परिपक्व की तलाश की।

बता दें कि बेंगलुरु के पास इन दोनों परिवार वालों के माता-पिता की मुलाक़ात हुई। जिसके बाद इनके परिवार वालों ने अपने नाबालिग बेटे की शादी तय उस लड़की के साथ कर दी। फिर जब सोशल मीडिया पर इनकी शादी की तस्‍वीरें सामने आई तो पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू कर दी और कुछ अधिकारियों ने इस बात का पता लगाने के लिए गांव में गये, लेकिन वहां उनके हाथ सिर्फ निराशा लगी क्योंकि गांव में दूल्हा-दुल्हन और उनके परिवार वाले मौजूद नहीं थे।

 विवाह करके एक पत्नी व्रत धारण करना ही सभ्य मानव की निशानी है। बहुत सोच-समझ कर वैदिक ऋषियों ने विवाह के कुछ प्रकार बताएं जिसमें से कुछ तरह के विवाह को समाज में निषेध किया गया।