fbpx

अनलॉक कार ने ले लिया दो मासूमों की जान बुझ गए दो घरों के चिराग, दोनों 2 परिवारों के इकलौते बेटे थे

कोई भी इंसान जाम के गलती नही करता लेकिन कभी कभी हमसे अनजाने में ऐसी गलती हो जाती है जिसके बाद पछताने से भी कुछ नही होता है| क्यों की बिता हुआ समय फिर वापस नही आता| दरअसल आज हम आपको एक ऐसी ही सच्ची घटना के बारे में बताने जा रहे हिया जो की सच मच दिल दहलाने वाली है| दोस्तों आजकल के इस फैशन भरे दौर में कार का इस्तेमाल तो हम सभी करते है लेकिन इसके सस्थ हमे सावधि भी बरतनी चाहिए|

दरअसल आज का जो मामला है वो शहर के डिंडोली की मानसी रेजिडेंसी में रहने वाले दो परिवारों का है जो की एक ही कॉलोनी में रहते थे| और जरा सी असावधानी बरतने से इन दोनों परिवारों ने अपने घर के 2 मासूम ह्बेते को खो दिया| इन दोनों परिवारों ने सोमवार को एक साथ अपने इकलौते चिराग खो दिए। आपको बता दे की दोपहर का समय था और दिन के 12 बजे थे तभी इन दोनों घरो के बच्चे घर से नमकीन लाने के लिए निकले थे और धुप इतनी तेज़ थी की दोनों बच्चे बाहर खड़ी कार में जा कर बैठ गए। इनके बैठते ही कार का गेट लॉक हो गया। धूप में तपती बंद कार में कई घंटे लॉक रहने के बाद तपिश और घुटन के कारन इन दोनों मासूमो का बुरा हाल हो गया| और इसके चलते दोनों बच्चों की सांसें थम गईं।

और जब केर h गयी तोघर क परिजन बच्चों को खोजने निकले और डेढ़ बजे से परिजन और सोसाइटी के लोग बच्चों को तलाश रहे थे। और जब इन बच्चों का पता नही चला तो पुलिस को भी सूचना दी गयी और शाम के करीब 7 बजे कार के पास कुत्तों के भौंकने पर पता चला कि दोनों बच्चे कार के अंदर लॉक हैं। कांच तोड़कर दोनों को अस्पताल ले गए, लेकिन तब बहुत डियर हो चुकी थी| और वहा ले जाने पर उन दोनों को मृत घोषित कर दिया गया। दोनों की चमड़ी झुलस गई थी, फफोले पड़ चुके थे। खबरों के मुताबिक मानसी रेजिडेंसी के मकान नंबर 67 में रहने वाले निखिल जरीवाला ने 4 वर्षीय विराज और मकान नंबर 62 के महेश रुपावाला ने 5 वर्षीय हेलीश को इस घटना में खो दिया। विराज जूनियर केजी में और हेलीश सीनियर केजी में पढ़ता था|

 

जानकर के मुताबिक डीसीपी राकेश ने बताया कि कार रविवार से ही मानसी रेजिडेंसी में खड़ी थी, जो शायद अनलॉक थी। बच्चे खेलते-खेलते कार में चले गए और उनसे अंदर से लॉक हो गई तो उसे खोल नही पाए। इतनी ज्यादा गर्मी, उमस और सांस नहीं ले पाने के कारण बच्चों ने दम तोड़ दिया। आपको ये तो पता ही होगा की बंद कार से गर्मी बाहर नहीं आ पाती और इसी के कारण ये घटना हो गयी|

 

ज़रा सी लापरवाही ने दो मासूम बच्चों को मौत के घाट उतार दिया इसलिए हमें हमेशा सावधान ररहना चाहिए और आप अपने जीवन में जितनी भी सुख सुविधा की चीज़े इस्तेमाल करते है उसे बहुत सी सावधानी से इस्तेमाल करना चाहिए| सावधानी हटी तो दुर्घटना घटी ये तो आपने सुना ही होगा| और इसका उपयोग अपने जीवन में करना चाहिए|