fbpx

जाने केवल विवाहित स्त्रियां ही क्यों पहनती है बिछिया, वजह जान कर रह जायेंगे दंग

इसमें कोई शक नहीं कि शादी के बाद एक लड़की के जीवन में बहुत सी चीजे बदल जाती है. जैसे कि लड़की के रहने का ढंग और उसके बोलने का ढंग, यहाँ तक कि पहनने का ढंग तक बदल जाता है. यानि अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो शादी के बाद लड़की के रहन सहन में काफी परिवर्तन देखने को मिलता है. गौरतलब है कि शादी के बाद लड़कियां मंगलसूत्र, सिंदूर और पूरा सोलह श्रृंगार करके रहती है. इसके साथ ही शादी के बाद लड़कियां अपने पैरो में बिछियां भी पहनती है. हालांकि ज्यादातर लड़कियों को ये मालूम नहीं होता कि आखिर बिछियां पहनी क्यों जाती है. वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दे कि यह महज एक गहना नहीं है, बल्कि इसे पहनने से भी काफी फायदा भी होता है.

बता दे कि इसका चलन आज से नहीं बल्कि प्राचीन काल से चला आ रहा है. बरहलाल आज हम आपको बताएंगे, कि आखिर शादी के बाद बिछियां क्यों पहनी जाती है. अब यूँ तो बिछियां को सुहागन की निशानी ही माना जाता है, लेकिन फिर भी आज के समय में बहुत सी लड़कियां ऐसी है, जो बिछियां नहीं पहनती. जहाँ शहरों में बिछियां पहनने का रिवाज नहीं है, वही गावो में आज भी इसका चलन कायम है. इसके इलावा शास्त्रों में बिछियां पहनने के कई फायदों के बारे में बताया गया है और वैज्ञानिक दृष्टि से भी बिछियां पहनने के कई फायदे देखने को मिलते है. गौरतलब है कि पैर के अंगूठे की तरफ से दूसरी अंगुली में एक खास नस होती है.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि यह नस महिलाओ के गर्भाशय से जुडी होती है. इसलिए ऐसा माना जाता है कि पैरो के जो बीच की ऊँगली होती है, वो सीधा गर्भाशय से जुडी होती है. यानि जो महिलाएं माँ बनने की इच्छा रखती है, उन्हें बिछियां जरूर पहननी चाहिए. बता दे कि बिछियां पहनने से गर्भधारण की क्षमता भी बढ़ जाती है. यहाँ तक कि इससे गर्भपात होने का भी खतरा नहीं रहता. इसके साथ ही पैरो की उंगलियों में बिछियां पहनने से ये आपके शरीर की भी रक्षा करती है. जी हां इससे आपको गर्भाशय से जुडी कोई बीमारी नहीं होती.

गौरतलब है कि बिछियां पहनने से रक्तचाप भी स्थिर और नियंत्रण में रहता है. ऐसे में रक्त का सही तरह से संचार होने से महिलाओ को तनाव से भी मुक्ति मिलती है. वही अगर वैज्ञानिक दृष्टि से देखा जाए तो बिछियां पहनने से लड़कियां खुद को फ्रेश महसूस करती है. वो इसलिए क्यूकि बिछियां चांदी की बनी होती है और चांदी काफी ठंडी होती है. ऐसे में इसे पहनने से आपके शरीर को भी काफी ठंडक मिलती है. यही वजह है कि शादी के बाद महिलाएं बिछियां पहनती है. वैसे भी बिछियां पहनने का रिवाज तो पुराने समय से चला आ रहा है, ऐसे में अगर लड़कियां कलयुग में भी इसका महत्व समझ जाएँ तो शायद उनका जीवन सफल हो जाएगा.

बरहलाल हम उम्मीद करते है कि इसे पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे कि एक शादीशुदा लड़की के लिए बिछियां पहनना कितना जरुरी होता है और इसके कितने सारे फायदे भी होते है.