मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट : अगले 2 दिन भारी बारिश के साथ मानसून देगा दस्तक,इन 13 राज्यों में तूफान मचाएगा फिर तबाही

भीषण गर्मी से पूरा देश परेशान हो चूका है लेकिन अब धीरे धीरे गर्मी के तेवर अब ढीले पड़ने लगे हैं।मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक  जिले में प्री-मानसूनी बादलों की खेप जल्द ही आ जाएगी। जहाँ मई के दौरान  तापमान 46.6 डिग्री तक जा पहुंचा था। लगातार इस तरह का माहौल रहने से शहर भट्टी की तरह तप रहा था। जून आते ही तापमान में गिरावट का दौर शुरू हुआ है। गर्मी से परेशान लोगों के लिए यह माह राहत लेकर आया है।  लेकिन इससे पहले लोकल बादलों की आवाजाही से तापमान के तेवर कुछ ढीले जरूर पड़ गए हैं जिससे तापमान में एकाएक गिरावट का दौर शुरू हो गया है। वही अगर मौसम विभाग की माने तो अगले हफ्ते तक मानसून सक्रिय हो जाएग जिससे तापमान में और गिरावट आएगी। मानसून सक्रिय होते ही झमाझम का दौर चलेगा।

मई के दौरान भीषण गर्मी ने लोगों को खासा परेशान किया जिसके बाद अब जून महीने में  मौसम कुछ राहत दे सकता है रविवार को तापमान 42.4 डिग्री पर रहा। इसके चलते पिछले दिनों की अपेक्षा लोगों को गर्मी से कुछ राहत मिली। इधर न्यूनतम तापमान की बात करें तो वह भी 27 डिग्री चल रहा है। तापमान कम होने से लोगों को गर्मी में कुछ सुकून मिला है।

इस बार मानसून जल्दी ही सक्रिय हो जाएगा। मौसम पर्यवेक्षक सत्येंद्र धनोतिया बताते हैं कि 8 जून से ही जिले में बारिश का दौर शुरू हो जाएगा। प्री मानसून की चार-पांच दिनों की बारिश के बाद 13 जून से मानसून भी जिले में छा जाएगा। बारिश आने से माहौल में ठंडक घुलेगी और तापमान का पारा 8 से 10 डिग्री तक लुढक जाएगा।अभी हाल ही में मौसम विभाग ने अगले दो दिन में मानसून के महाराष्ट्र और गोवा पहुंचने की संभावना जताई है।

सरकार ने कहा है कि मानसून गति पकड़ रहा है और केरल, तटीय कर्नाटक, कोंकण क्षेत्र और गोवा में सात जून से बारिश में तेजी आएगी।वहीं, मौसम का पूर्वानुमान बताने वाली एक निजी कंपनी के मुताबिक इस सप्ताह के आखिर में इन हिस्सों में भारी बारिश हो सकती है। निजी एजेंसी स्काईमेट का कहना है कि आठ से 10 जून के बीच पश्चिमी तट और खासकर मुंबई में बारिश के आसार हैं।

वही मौसम विभाग ने पूर्वानुमान के अनुसार 10 जून के बाद इन इलाकों में बाढ़ की आशंका जाहिर की है। मौसम विभाग के मुताबिक मानसून अपने निर्धारित समय से तीन दिन पहले 29 मई को केरल पहुंच गया था। यह तमिलनाडु एवं बंगाल की खाड़ी के दक्षिण पश्चिम, पश्चिम-मध्य, पूर्व-मध्य, उत्तर-पूर्व और पूर्वोत्तर के राज्यों की ओर बढ़ चुका है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने कहा है कि दो-तीन दिन में मानसून के दक्षिणी प्रायद्वीप, बंगाल की खाड़ी, पूर्वोत्तर के कुछ हिस्सों के साथ पश्चिम बंगाल के हिमालय से सटे इलाकों में बढ़ने के लिए अनुकूल स्थिति बनने के आसार हैं।

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय में सचिव एम राजीवन ने कहा कि मानसून के सात जून से “मजबूत” होने के आसार हैं। इस कारण केरल, तटीय कर्नाटक, मुंबई और गोवा सहित कोंकण क्षेत्र में “भारी बारिश”  होने  की भी आशंका जताई जा रही है |बता दे मौसम विभाग ने अलर्ट जारी कर दिया है क्योंकि 10 जून के बाद से इस इलाके में बाढ़ की आशंका है जिसके वजह से लोगों को घरों के अंदर रहने का सुझाव दिया है।