कर्ज में डूबे ऑटो वाले को मिला 10 लाख रुपयों से भरा बैग, फिर जो हुआ वो हैरान कर देने वाला था

दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं आज के महंगाई के जमाने में हर कोई पैसो के पीछे भागता हैं. अपनी लाइफ को और बेहतर बनाने के लिए इंसान पीसो का भूखा होता हैं. इन पैसो को पाने की चाह में कुछ लोग सारी हदें पार कर जाते हैं और कई तरह के अपराध करने में भी नहीं हिचकते हैं. यहाँ हर कोई एक दुसरे को लूटने में या बेवक़ूफ़ बनाने में लगा हुआ हैं, ताकि उसकी जेब और भी भर सके. ऐसे में जरा सोचिए यदि आप सिर से लेकर पाँव तक कर्ज में डूबे हैं और आपको कहीं 10 लाख रुपयों से भरा बैग मिल जाए तो आप क्या करेंगे? जाहिर सी बात हैं ऐसी स्थिति में हम में से कई लोगो के मन का चोर हावी हो जाएगा और हम बिना किसी को बताए वो पैसो से भरा बैग रख लेंगे. लेकिन हर किसी की सोच ऐसी नहीं होती हैं. इस देश में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो बड़े इमानदार और खुद्दार हैं. उन्हें ऐसी हराम की कमाई नहीं जमती हैं. आज हम आपको एक ऐसा ही किस्सा सुनाने जा रहे हैं जो हम सभी के लिए एक बेहतरीन मिसाल बन सकता हैं.

ये घटना हैं हैदराबाद शहर की जहाँ जे रामुलु नाम का एक शख्स ऑटो चलाने का काम करता हैं. रामुलु मुख्य रूप से नलगोंडा जिले के देवराकोंडा का रहने वाला हैं. वो अपने परिवार का पेट पालने के लिए यहाँ हैदराबाद में औटो चलाने का काम करा हैं. ऐसे में एक दिन उसके ऑटो में दो लोग बैठे. इनके पास एक बैग भी था. कुछ देर के सफ़र के बाद रामुलु ने इन दोनों को उनकी बताई लोकेशन पर छोड़ दिया. इसके बाद रामुलु आगे बढ़ गया. ऐसे में कुछ देर बाद उसे पता चला कि ये दोनों यात्री उसके ऑटो में एक बैग भूल गए हैं. जब रामुलु ने ये बैग खोला तो उसके होश उड़ गए. इस बैग में ढेर सारे रुपए थे जिनकी कीमत 10 लाख रुपए थी.

पहले तो रामुलु इतने सारे पैसे देखकर डर गया लेकिन फिर उसने हिम्मत जुटाई और बिना किसी देरी के वापस उसी स्थान पर गया जहाँ उसने उन दोनों यात्रियों को उतारा था. उधर ये दोनों बंदे भी इस बात को लेकर परेशान थे कि आखिर उनका पैसो से भरा बैग कहाँ गूम हो गया. उन्होंने इस खोए पैसो को लेकर पुलिस में कम्प्लेन भी कर दी थी. फिर तभी उनकी मुलाकात रामुलु ऑटो ड्राईवर से हो गई जो इन दोनों को पैसे वाला बैग वापिस करने के लिए ढूंढ रहा था.

बाद में पता चला कि रामुलु ने पहले से बैंक से 1.5 लाख रुपए का लोन ले रखा हैं. ऐसे में वो चाहता तो इस पैसो को अपने पास रख आराम से एन्जॉय कर सकता था लेकिन रामुलू ने बताया कि वो इन पैसो से ज्यादा से ज्यादा कुछ साल एन्जॉय करता लेकिन उसका जमीर जिंदगीभर इसके लिए उसे कोसता रहता. इसलिए उसने किसी और का नुकसान कर खुद एन्जॉय करना सही नहीं समझा और पैसो से भरा बैग लौटा दिया.

रामुलु की इस इमानदारी से बैग का मालिक इतना खुश हुआ कि उसने इनाम के तौर पर उसे 10 हजार रुपए दे दिए. इस तरह रामुलु को अपनी इमानदारी का फल हाथो हाथ ही मिल गया. ये पूरी घटना हम सभी के लिए एक प्रेरणा हैं. यदि आको ये स्टोरी पसंद आई तो इसे दूसरों के साथ भी शेयर करे ताकि हर कोई इससे प्रेरित हो सके.