पुलवामा हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देते समय पीएम मोदी ने किया जो काम, वो परिवार के अलावा कोई नहीं कर सकता

14 फरवरी को पुलवामा टेररिस्ट अटैक में सीआरपीएफ 42 जवान शहीद हो गए हैं जिसके वजह से भारत के 125 करोड़ जनता की आँखे नम है  और देश का हर नागरिक यही चाहता है की इसका बदला लिया जाये लोगो में आक्रोश की  भावना जागृत हो गयी है |श्रीनगर-जम्मू हाइवे पर अवंतीपोरा इलाके में टेररिस्ट  ने सीआरपीएफ के एक काफिले को निशाना बनाकर यह हमला किया. इस टेररिस्ट अटैक की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली है|

इसके साथ ही शहीदों की पार्थिव शरीर को दिल्ली लाए जाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल, सेना प्रमुख बिपिन रावत समेत तीनों सेना प्रमुखों ने इन शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान पीएम मोदी ने तिरंगे में लिपटी 40 शहीदों की सभी पार्थिव शरीर की 180 कदम चलकर परिक्रमा लगाई और उन्हें नमन कर श्रद्धांजलि दी और आपको बता दे की ऐसा केवल वही लोग करते है जिनके घर के किसी अपने की मृत्यु हो जाती है  तो ऐसे में ये कहा जा सकता है की प्रधान मंत्री मोदी इन शहीद जवानों को अपना परिवार मानते है और  उन्हें शहीदों के इस तरह से टेररिस्ट अटैक में मौत होने पर बहुत ज्यादा दुःख है|

वही इस दौरान पीएम मोदी कुछ भावुक भी नजर आए, जिसे देखकर मानों ऐसा लगा रहा था, जैसे वे इन अमर शहीदों को ये कह रहे हैं कि आपका ये बलिदान व्यर्थ नहीं जाने दिया जाएगा और देश से किया गया वादा इसका मुंहतोड़ जवाब देकर पूरा किया जाएगा|इसके साथ ही ऐसी भी ख्रबर है कि पीएम मोदी ने सभी केंद्रीय मंत्रियों और बीजेपी शासित राज्यों मंत्रियों एवं सांसदों को जवानों के अंतिम संस्कार के दौरान मौजूद रहने के लिए कहा है कि वे अपने राज्यों के शहीदों के अंतिम संस्कार में हिस्सा लें और उनके परिवारों की हर संभव मदद करें। इससे पहले शहीद जवानों को गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बडगाम में श्रद्धांजलि दी थी। गृह मंत्री ने शहीद के शव को कंधा देकर श्रद्धांजलि दी।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद देश गम व गुस्से में है. प्रत्येक देशवासी की यही चाह है कि जवानों की शहादत का बदला लिया जाये. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि सुरक्षा बलों को आगे की कार्रवाई, समय, स्थान व स्वरूप तय करने की पूरी स्वतंत्रता है. वहीं, अपने साथियों को खोने के बाद भी सुरक्षा बलों के हौसले बुलंद हैं|इधर, सीआरपीएफ ने भी कहा है कि वह अपने 40 जवानों की शहादत को न तो भूलेगा और न ही माफ करेगा, बल्कि इसका बदला लेगा. देश के सबसे बड़े अर्द्धसैनिक बल सीआरपीएफ ने सोशल मीडिया पोस्ट में कहा कि हम पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों को सलाम करते हैं. शहीद भाइयों के परिवारों के साथ खड़े हैं. इस क्रूरता को न भूलेंगे, न माफ करेंगे, बदला लेंगे.

बड़गाम के जवान को गृहमंत्री नें दिया कंधा :

पुलवामा में हुए भीषण टेररिस्ट अटैक  के बाद सूचा देश आग की तरह धधक रहा है लोग एक ही बात कह रहे हैं कि जवानों की शहादत का जल्द बदला लो | जिस तरह एक पिता अपने बेटे को कंधा देता है ठीक उसी प्रकार से केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह नें बड़गाम के जवान के मृत अवशेषों को अपने कंधे में उठाया और इस दौरान उनके हाँथ पांव लड़खड़ा रहे थे और आँखे भी नम थी |

देखे विडियो :

मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा पाक से भारत नें छीना :

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए टेररिस्ट अटैक  के बाद भारत ने बड़ा कदम उठाते हुए पाकिस्तान को दिया गया सर्वाधिक तरजीही राष्ट्र का दर्जा वापस ले लिया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडल समिति (सीसीएस) की शुक्रवार की बैठक में यह फैसला किया गया।