भारतीय फाइटर प्लेन को देख इस वजह से भागे थे पाकिस्तानी लड़ाकू विमान

पुलवामा में शहीद हुए 46 CRPF जवानों की शहादत का बलदा आज पूर्ण हुआ हैं. जैसा कि आप सभी जानते हैं भारतीय वायु सेना ने आज (26 फरवरी, मंगलवार) सुबह 3:30 बजे पकिस्तान के अंदर घुसकर जैश ए मोहम्मद संगठन के कई कैम्पस तबाह कर दिए. इसमें उनका मुख्य अल्फ़ा 3 कंट्रोल रूम भी शामिल था. सूत्रों के अनुसार इस कैंप में करीब 300 से ज्यादा उपद्रवी मौजूद थे. ऐसे में आईएएफ के 12 मिराज 2000 विमानों उनपर ताबड़तोड़ बमबारी की थी. इस दौरान इनके अड्डो पर 1000 किलोग्राम बम बरसाए गए. इस कारवाई में बालाकोट में सबसे अधिक दुश्मनो को ठिकाने लगाया गया. एक जानकारी के अनुसार इस पूरी एयरस्ट्राइक की बदौलत करीब 350 जैश के लोगो को ढेर किया गया. इनमे से 25 लोग ऐसे थे जो यहाँ नवयुवको को ट्रेनिंग देते थे. इस स्ट्राइक की एक ख़ास बात ये भी रही कि इसमें जैश के मुखिया मसूद अजहर के तीन करीबी रिश्तेदार ख़त्म हो गए. इसमें उसका बड़ा भाई इब्राहिम अजहर, छोटा भाई मौलाना तल्हा सैफ और साला युसूफ अजहर शामिल था.

इंडियन एयरफोर्स को देख भागे पाकिस्तानी फाइटर प्लेन

इस एयरस्ट्राइक की एक दिलचस्प बात ये भी रही कि जब भारतीय वायु सेना के विमान पाकिस्तानी सीमा में घुसे तो उन्हें भगाने के लिए पाकिस्तान ने अपने अमेरिकी F-16 फाइटर प्लेन को मैदाने जंग में उतारा था. पाकिस्तान के इस लड़ाकू विमान ने भारतीय प्लेन को भागने की कोशिश की थी. लेकिन जब इस प्लेन में सवार लोगो ने देखा कि ये भारतीय विमान अकेला नहीं अहिं बल्कि इसके साथ दुसरे विमानों का झुण्ड भी हैं तो वो वहां से रफूचक्कर हो गया. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि तकनिकी रूप से पाकिस्तान का अमेरिकी F-16 फाइटर प्लेन भारत के मिराज 2000 से ज्यादा उन्नत था. लेकिन इसके बावजूद पाकिस्तानी विमान को IAF ने खदेड़ दिया. हुआ ये कि पाकिस्तानी विमान इतने सारे इंडियन एयरफोर्स के प्लेन देख घबरा गया था. वो जनता था कि यदि उसने कोई कारवाई कि तो ये इंडियन विमान उसकी धज्जियाँ उड़ा देंगे. इसलिए उसने वहां से चुपचाप भाग निकलने में ही अक्लमंदी दिखाई. और इस तरह IAF मिराज 2000 ने पाकिस्तानी विमान को भागने पर मजबूर कर दिया.

जानकारी के अनुसार भारत को ख़ुफ़िया सूत्रों से जानकारी मिली थी कि पाकिस्तानी जमीन पर चल रहे जैश संगठन के शिविर में भारत के खिलाफ कई बड़े आत्मघाती अटैक करने की प्लानिंग चल रही हैं. भारत को ये जानकारी एक विश्वशनीय सूत्र से मिली थी. ऐसे में उन्होंने कोई भी रिस्क ना लेना ही सही समझा और पूर्वनिर्धारित निति के तहत इस स्ट्राईक को अंजाम दे दिया. ये काफी हैरत की बात रही कि इंडियन एयरफोर्स के विमान पकिस्तान के अंदर 80 किलोमीटर तक चले गए और सिर्फ 19 मिनट के अंदर ही उन्होंने अपनी सभी कारवाई को अंजाम दे दिया. इतना ही नहीं इस पुरे ऑपरेशन में भारतीय वायु सेना को किसी भी तरह का कोई जान या माल का नुकसान नहीं हुआ. ये भारत की बहुत बड़ी कामयाबी रही.

गौरतलब हैं कि इस एयरस्ट्राइक का मुख्य मकसद पुलवामा में शहीद हुए जवानों का बदला लेना था. 14 फरवरी को हुई इस घटना के बाद से ही देशवासी बदले की मांग कर रहे थे. ऐसे में इस बदले को अंजाम देकर इंडियन एयरफोर्स ने हम सभी का सिर गर्व से ऊँचा कर दिया.