IAF एयरस्ट्राइक में इजराइल का ये ड्रोन बना ब्रह्मास्त्र, पाकिस्तानी डिफेन्स सिस्टम को ऐसे किया था फ़ैल

दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं कल यानी कि 26 फरवरी को सुः करीब 3:30 बजे इंडियन एयरफोर्स ने पाकिस्तान में घुस पुलवामा में शहीद हुए जवानों का बदला लिया हैं. आईएएफ ने इस मिशन को पूरा करने के लिए 12 मिराज 2000 विमानों का इस्तेमाल किया था. ये विमान पाकिस्तान की जानकारी के बिना ही उसकी सीमा में घुस गए थे. इन विमानों ने पकिस्तान के अन्दर करीब 80 किलोमीटर तक चक्कर लगाया और रास्ते में तीन जगहों चिकोठी, मुज्जफराबाद और बालाकोट में भारी बमबारी की. ऐसा बताया जा रहा हैं कि इस दौरान पाकिस्तानी जमीन पर करीब 1000 किलोग्राम बम बरसाए गए थे. इन बमों के गिरने की वजह से जैश ए मोहम्मद के कई कैम्पस तबाह हो गए. इसमें उनका मुख्य अल्फा 3 कंट्रोल रूम भी शामिल था. जानकारी के मुताबिक IAF की इस एयरस्ट्राइक के चलते जैश के 350 लोग ख़त्म हुए हैं. इनमे 25 ऐसे लोग भी थे जो दूसरों को वहां ट्रेनिंग देने का कम करते थे.

लेकिन क्या आप ने सोचा हैं कि आखिर इंडियन एयरफोर्स ने ऐसा क्या किया होगा जो वो पाकिस्तानी सेना के रेडार से बचते हुए पक्सितान में इतना अंदर घुसने में कामयाब हो गए. आज हम इसी राज पर से पर्दा उठाने जा रहे हैं. दरअसल पाकिस्तान के रेडार को धोखा देकर अंदर घुसने में इजराइल के नेत्र AEW&C और हेरॉन ड्रोन ने बड़ी ही महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. दरअसल नेत्र AEW&C ने वहां पाकिस्तान रडार को जाम करने का काम किया था. साथ ही वो पाकिस्तानी विमानों पर कड़ी नज़र रखे हुए था ताकि यदि पाकिस्तान की ओर से कोई हमला होता हैं तो उसकी सुचना IAF को मिल जाती. नेत्र AEW&C के पाकिस्तानी रेडार को जाम करने के बाद दुसरा मुख्य काम हेरॉन ड्रोन ने किया. इस ड्रोन ने मिराज 2000 विमानों को जैश के ठिकानो को ढूंढ उसकी सटीक जानकारी दी. इस तरह इस इनफार्मेशन के बाद इंडियन फाइटर प्लेन्स ने बमबारी शुरू कर दी.

इस बमबारी से जैश को काफी बड़ा नुकसान हुआ हैं. उसके ना सिर्फ कैम्पस बर्बाद हुए हैं बल्कि लांचपेड भी तबाह किए गए हैं. साथ ही इस कारवाई में जैश के मुख्य संरगना मसूद अजहर के तीन करीबी रिश्तेदार भी ढेर हुए हैं. भारत की इस स्ट्राइक से यक़ीनन जैश पूरी तरह से हिल गया हैं. ऐसा बताया जा रहा हैं कि भारत को एक विश्वशनीय सूत्र से जानकारी मिली थी कि जैश के लोग पाकिस्तानी जमीन पर बने शिविर कैंप में भारत पर आत्मघाती वार करने की प्लानिंग क्र रहे हैं. ऐसे में भारत की ओर से इस पर कारवाई करना काफी जरूरी हो गया था.

जहाँ एक तरफ भारत की इस स्ट्राइक से पूरा देश खुश हैं तो वहीँ दूसरी ओर पाकिस्तान में तनाव और डर का माहोल पनप रहा हैं. इस सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारत और पकिस्तान के बीच हालत ठीक नहीं हैं. गौरतलब हैं कि भारत की ये एयर स्ट्राइक 14 फरवरी में पुलवामा में शहीद हुए जवानों की शहादत का बदला लेने के लिए भी की गई थी. उस दौरान भारत के 44 जवान शहीद हुए थे. ऐसे में भारत ने बदला लेते हुए दुश्मनों के 350 लोगो को ढेर कर दिया.