भूलकर भी न करें इन 2 स्त्रियों का अपमान,वरना जीवन भर के लिए बन जायेंगे कंगाल

माता लक्ष्मी जिस पर प्रसन्न हो जाती हैं उस व्यक्ति के घर-संसार में कोई परेशानी नहीं होती। हमेशा वह परिवार मां लक्ष्मी की छत्रछाया में रहता है। मां लक्ष्मी हमेशा वहीं वास करती हैं जहां महिलाओं का सम्मान हो। जिस घर में महिलाओं का सम्मान नहीं होता, वहां लक्ष्मी कभी वास नहीं करती।कई बार लोग तमाम कोशिशे करने के बाद भी अपने जीवन में सफलता नहीं प्राप्त कर पाते हैं। दरअसल ऐसे व्यक्ति कहीं न कहीं अपने जीवन में जाने अनजाने में ऐसी गलतियां कर देते हैं जिसकी वजह से उन्हें पछताना पड़ता है। आपने देखा होगा कि बड़े ठाठ-बाठ से रहने वाले साहूकार और सेठ पल में कंगाल होकर रास्ते पर आ जाते हैं। यह सब मां लक्ष्मी के रूष्ट होने के कारण ही होता है।

ज्योतिष शास्त्र में बताया गया है, कि आप जाने-अनजाने में अगर इन लोगों का अपमान करते हैं, तो आपको करोड़पति से रोड़पति बनने में ज्यादा देरी नहीं लगेगी। इसके लिए चाहें आप कितना भी पूजा-पाठ करते हों या फिर दान-धर्म, इसका पाप कभी नहीं मिटता। हिन्दू धर्म ग्रंथों में दो तरह की स्त्रियों को वरदान प्राप्त है जिसके अनुसार अगर कोई भी व्यक्ति इन पर बुरी नजर रखता है तो उसको जीवन में असफलता ही मिलती है। वह व्यक्ति हमेशा परेशानियों से घिरा रहता है।

हमेशा महिलाओं का सम्मान करना चाहिए। किसी भी महिला का अपमान करना न तो हमारी संस्‍कृति सिखाती है और न ही धर्मशास्त्रों में ऐसा कुछ लिखा गया है। हमारा संविधान भी इनकी इज्‍जत करने को कहता है, जो भारत की विशेषता को बखान करता है। वैसे भी हमारे देश में महिलाओं को देवी का स्‍थान दिया जाता रहा है। र्मग्रंथ रामचरित्र मानस में कहा गया है कि अगर किसी महिला का अपमान कोई पुरुष करता हैं तो उससे भगवान दुखी होते है।

पराई स्त्री

हमारे पौराणिक कथा के अनुसार कभी भी किसी पराई स्त्री के ऊपर बुरी नजर नहीं डालनी चाहिए क्योंकि ऐसा करने से आपको केवल नर्क में ही जगह मिलती है और धन की भी हानि होती है | बता दे इस तथ्य के पीछे एक पौराणिक कथा भी छिपी है जिसके अनुसार राक्षस कम्भा को शिव जी से वरदान मिला था जिसके चलते इंद्र को हराकर उनका सिंहासन छीन लिया था। परेशान होकर इंद्र दत्तात्रेय के पास पहुंचे तब उन्होंने राक्षस कम्भा को अपने पास बुलाया।

जब राक्षस कम्भा वहां पहुंचा तो देवी लक्ष्मी वहां पर विराजमान थीं। कम्भा ने देवी लक्ष्मी पर मोहित होकर उनको कैद में कर लिया। इसके बाद विष्णु ने इंद्र को आदेश दिया कि राक्षस को मारकर देवी लक्ष्मी कोस वापस लाएं। तब राक्षस कम्भा ने शिवजी के वरदान की बात कही। इस बार भगवान विष्णु ने कहा कि जो भी पराई स्त्री का अपमान करता है उसका सारा पुण्य कर्म नष्ट हो जाता है और यही नहीं  पराई स्त्री पर बुरी नजर रखने इंसान सदैव ही पाप का भागी बनता  है।

विधवा स्त्री

जिस प्रकार से पौराणिक कथानुसार पराई स्त्री पर बुरी नजर डालने वाला व्यक्ति पाप का भागी होता है ठीक उसी प्रकार से विधवा स्त्री पर गंदी नजर रखने वाला व्यक्ति पाप का भागी बनता है और उसे करोड़पति से रोडपति बनने में जरा भी वक्त नहीं लगता है और  ऐसे व्यक्ति को हर जगह नाकामयाबियों का सामना करना पड़ता है इसलिए भूलकर भी किसी विधवा स्त्री पर बुरी नजर नहीं डालनी चाहिए।