मुकेश अम्बानी ने लड़ाई करके अलग हुए भाई को भी ऐसे बचाया बर्बादी से, वाकई भगवान सबको दे इनके जैसा भाई

मुकेश अंबानी एक भारतीय उद्योगपति और रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष तथा प्रबंध निदेशक हैं। अकूत निजी संपत्ति के मालिक, मुकेश भारत के सबसे अमीर व्यक्तियों की सूचि में शामिल हैं। इसके साथ-साथ वे दुनिया के सबसे धनी व्यक्तियों में भी शामिल हैं| रिलायंस इंडस्ट्रीज भारत में निजी क्षेत्र की सबसे बड़ी तथा फोर्च्यून 500 कंपनी है। वे दुनिया की सबसे महंगी ज़ायदाद मुंबई स्थित ‘एंटिल्ला’ में रहते हैं। मुकेश रिलायंस के संस्थापक स्वर्गीय धीरुभाई अम्बानी के पुत्र और ‘रिलायंस अनिल धीरुभाई अम्बानी ग्रुप’ के अध्यक्ष अनिल अम्बानी के बड़े भाई हैं|

कहते हैं अगर नाक की लड़ाई ना हो तो एक भाई के लिए उसका भाई ही सबसे बड़ा मददगार होता है। मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी को ही देख लीजिए। दोनों भाई हैं। सगे भाई। धीरूभाई अंबानी के स्वर्ग सिधारते ही रिश्तों में दूरियां आ गई थी, और दोनों मन से बहुत दूर हो गए चूंकि उन्होंने कोई वसीयत नहीं छोड़ी थी, लिहाजा बड़े बेटे मुकेश रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन और एमडी बने, जबकि अनिल को वाइस-चेयरमैन का पद मिला। कंपनी पर नियंत्रण को लेकर दोनों में विवाद हुआ। 2005 में मां कोकिलाबेन ने मध्यस्थता करते हुए दोनों भाइयों के बीच रिलायंस की अलग-अलग कंपनियों का बंटवारा किया।

फिर मोबाइल फोन के जिस धंधे में अनिल अंबानी थे, उसी मोबाइल की दुनिया में कदम रखते ही मुकेश अंबानी ऐसा भूचाल ले आए कि उनके स्मार्टफोन और फ्री डेटा से अनिल अंबानी की दुनिया न केवल हिलने लगी, बल्कि गश खाकर धराशायी हो गई। इसके बाद अनिल अंबानी की नींद उड़ी गई। वे धंधा समेटने की फिराक में थे। वैसे भी वे कोई मुनाफे का धंधा नहीं कर रहे हैं। भारी कर्ज का बोझ उनके सर पर है और बहुत आसानी से इससे उबरने की फिलहाल कोई गुंजाइश नहीं।

उन्हें कोई बड़ा लोन भी देने को अब तैयार नहीं। ऐसे में वो जाएं तो जाएं कहां लेकिन कहते हैं कि अपने तो अपने होते हैं। जब मुकेश अम्बानी को अपने भाई अनिल अम्बानी के इस हालत के बारे में पता लगा तो उन्होंने तुरंत पिछली बातें भुला दीं और भाई की मदद के लिए सबसे आगे खड़े हो गए।जी हां अनिल अंबानी ने रिलायंस कम्युनिकेशंस को सपोर्ट किया। मुकेश ने अनिल के बिजनेस को डूबने से बचाया और खरीद लिया। भाई कंगाल हो जाए इससे तो अच्छा यही कि वो बिजनेस छोटे की बजाए बड़ा भाई चलाए। इस सब लिए अनिल ने अपने बड़े भाई व रिलायंस समूह के प्रमुख मुकेश अंबानी का आभार प्रकट किया।

रिलायंस कम्युनिकेशंस की 14वीं वार्षिक आम बैठक में शेयरधारकों को संबोधित करते हुए अनिल अंबानी ने अपने बड़े भाई मुकेश अंबानी का आभार प्रकट किया जिन्होंने अविभाजित समूह के टेलीकॉम कारोबार की संकल्पना तैयार की और आरकॉम के कारोबारों को खरीदा। अंबानी ने कहा, ‘आरकॉम को और व्यक्तिगत रूप से मुझे समर्थन और सलाह देने के लिए मैं अपने बड़े भाई मुकेश अंबानी का आभार प्रकट करना चाहूंगा।’ गौरतलब है कि मुकेश अंबानी ने 4जी स्पेक्ट्रम की सफल बोली लगाने वाली एक कंपनी को खरीदकर टेलीकॉम सेक्टर में कदम रखा है।

साथ ही बताते चले बीते 12 दिसम्बर को रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी बेटी ईशा अंबानी की शादी उनके मुंबई स्थित घर एंटीलिया में पिरामल इंडस्ट्रीज के मालिक अजय पिरामल के बेटे आनंद पिरामल से हुई |इस दौरान कई वर्षों बाद मुकेश और उनके छोटे भाई अनिल अंबानी एक साथ नजर आए।