थोडा हंस भी ले : अपने जीवन के कुछ टेंशन कम करने लिए पढ़े यह मज़ेदार जोक्स

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी, ऊपर से काम का प्रेशर, इनकी वजह से हमारा अधिकतर समय काम की परेशानी में ही गुजर जाता है। हम में से कई लोगों को तो याद भी नहीं होगा कि पिछली बार कब खिलखिला कर हँसे थे, जबकि हँसना हम सभी के लिए अति महत्वपूर्ण है। किन्तु, हम उसे नजरअंदाज कर देते हैं।

 

 

जब कभी हम तनाव में होते है तो ये हार्मोन हमारे शरीर में सक्रिय हो जाते हैं। इनका लेवल बढ़ने पर घबराहट होती है, ज़्यादा घबराहट बढ़ने पर सिरदर्द, माइग्रेन, कब्ज और शुगर लेवल भी बढ़ सकता है। अगर आप सुबह-शाम हँसने की आदत डाल लें तो कोई भी बीमारी, फिर चाहे वो मानसिक हो या शारीरिक आपके पास नहीं आएगी। रोजाना हँसने से सेहत तो अच्छी रहती ही है साथ ही इससे शरीर में एनर्जी भी बनी रहती है। आइए जानते हैं स्वस्थ रहने के लिए क्यों जरूरी है हँसना।

 

हंसने से एंडोर्फिन नामक रसायन रिलीज़ होता है, जिससे कोर्टिसोल यानी स्ट्रेस हारमोन में कमतरी आती है। मतलब यह है कि हसंने से तनावमुक्त जीवन बिल्कुल मुफ्त में हासिल होता है। दूसरे शब्दों में आप कह सकते हैं हंसने से खुश होने का एहसास होता है जो तनाव के स्तर को कम करने में मदद करता है।

 

अगर आप दुखी रहने की बजाय हंसने और खुश रहने को तरजीह देते हैं तो यकीन मानिए कि नकारात्मकता आपके इर्द-गिर्द फटक भी नहीं सकेगी। सकारात्मकता हमेशा आपको घेरे रहेगी। परिणामस्वरूप जब भी आप संकट में होंगे तो उसका समाधान खोजने में ज्यादा समय नहीं लगेगा।

 

असल में यह कहने की जरूरत नहीं है कि सकारात्मक व्यक्ति बड़े से बड़े संकट व परेशानी को आसानी से झेल लेता है। जबकि नकारात्मक व्यक्ति अपनी छोटी परेशानी को भी विकराल रूप में बदल देता है।

 

चूंकि हंसने से हम अंदर तक खुशी का एहसास करते हैं। इससे हम भीतरी तौरपर मजबूत होते हैं। इसका मतलब साफ है कि शारीरिक समस्याएं चाहकर भी हमारे इर्द-गिर्द नहीं फटक पाती। असल में हंसने से छुटपुट बीमारियों को मात देने में हम सफल हो जाते हैं। जैसा कि यह सबको ज्ञात है कि सकारात्मक सोच हमें जवान बनाए रखती है

 

हसना सिर्फ एक भाव नहीं है। हंसना दूसरों को अपनी ओर आकर्षित करना होता है, दूसरों का विश्वास भी जीतना होता है। आप सोच रहे होंगे कि भला हंसने से विश्वास का क्या ताल्लुक? लेकिन आपको बता दें कि जब आप किसी से हंसकर मिलते हैं, उन्हें हंसाते हैं तो इससे दो अजनबियों के बीच गहरा रिश्ता पनपने लगता है। ये रिश्ता विश्वसनीयता को जन्म देता है।

तनाव को दूर करने में जो काम हँसी करती है वो कोई दवाई नहीं कर सकती। दरअसल, हँसने से आप लोगों के साथ ज्यादा सोशली एक्टिव हो जाते हैं, जिससे आपका तनाव खुद ही कम हो जाता है।

 

यंग और खूबसूरत दिखने की हर किसी की चाहत होती है। अगर आप भी उनमें से एक हैं तो खुलकर हंसना शुरू कर दें क्योंकि जब हम हँसते हैं तो हमारे चेहरे में मौजूद माँसपेशियाँ अच्छी तरह से काम करने लगती हैं।

जब हम हँसते हैं तो हमारे फेफड़ों से हवा तेजी से निकलती है, जिस वजह से हमें गहरी सांस लेने में मदद मिलती है। इससे शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई बेहतर तरीके से होती है।